गोबर

एक मुर्गी खेत में बैल से बातें कर रही थी. वह बोली, “मैं उस पेड़ की ऊंची टहनी तक पहुंचना चाहती हूं, लेकिन मुझमें इतनी ताकत नहीं है.”

बैल ने कहा, “तुम्हें पता है, हमारे गोबर में बहुत पौष्टिक तत्व होते हैं. तुम इसे थोड़ा-थोड़ा रोज़ खाओगी तो तुममें ताकत आ जाएगी”.

मुर्गी ने गोबर में चोंच मारकर देखा और उसे यह वाकई पौष्टिक लगा. उसमें थोड़ी ताकत आ गई और वह पेड़ की निचली टहनी तक पहुंच गई.

अगले दिन उसने फिर थोड़ा गोबर चखा और वह पेड़ की दूसरी शाखा तक पहुंच गई.

गोबर खाते-खाते चार-पांच दिनों के भीतर मुर्गी में इतनी जान आ गई कि वह पेड़ की सबसे ऊपरी शाखा पर चढ़ बैठी. बदकिस्मती से किसान ने उसे कोई बुरी चिड़िया समझकर गोली से उड़ा दिया.

इस छोटी सी कहानी से मिलनेवाली सीख बहुत रोचक है जिसे नीचे मूल अंग्रेजी में पढ़ना ही सही होगा 🙂

Moral of the story: Bullshit might get you to the top, but it won’t keep you there.

Advertisements

There are 8 comments

    1. Nishant

      सुब्रमण्यम जी पंचामृत में गोबर नहीं पड़ता. दूध, दही, शहद, घी और गन्ने के रस से बने प्रसाद को पंचामृत कहते हैं और आजकल ऐसा पंचामृत कोई नहीं बनाता.

      गाय के दूध, दही, घी, गोमूत्र और गोबर का पानी को सामूहिक रूप से पंचगव्य कहा जाता है. आयुर्वेद में इसे औषधि की मान्यता है और कई मांगलिक कार्य इनके बिना पूरे नहीं होते.

      पसंद करें

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.