आपकी इकिगाई (Ikigai) क्या है?

जापानियों के अनुसार हर व्यक्ति की एक इकिगाई (ikigai) होती है. इकिगाई शब्द का जापानी भाषा में अर्थ है ‘सुबह उठने का कारण’. इसे जीवन का उद्देश्य या जीवन का आनंद लेने का कारण भी कहा जाता है.

नीचे दिए गए डाइग्राम को देखिए. इसके भीतर दिए गए डीटेल्स अंग्रेजी में हैं लेकिन आपको समझने में दिक्कत नहीं होगी. यहां यह बताया गया है कि किन शर्तों के पूरा होने पर हमें क्या मिलता है (और क्या नहीं मिलता):

एक-दूसरे को काटते वर्तुलों के बीच का क्षेत्र आपकी इकिगाई है. यदि आपके जीवन में वर्तुलों के भीतर लिखी गई चीजों की कमी है तो आप जीवन को उसकी पूर्णता में नहीं जी पा रहे हैं. इतना ही नहीं, इस कमी का आपके लंबे और खुशहाल जीवन व्यतीत करने की कामना पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है.

तो क्या आपने अपनी इकिगाई खोज ली है?

  • आप वह कौन सा काम करने जा रहे हैं जिसे आप करना पसंद करते हैं?
  • क्या यह ऐसा काम है जिसकी दुनिया में ज़रूरत है?
  • क्या यह ऐसा काम है जिसमें आप एक्सपर्ट हैं?
  • और क्या यह ऐसा काम है जिससे आप पैसा कमा सकते हैं?
  • लंबा, स्वस्थ और खुशहाल जीवन बिताने के लिए आप आज क्या कर सकते हैं?

कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता, कहीं जमीं तो कहीं आसमां नहीं मिलता.

ग़ज़ल की यह लाइन आज बहुत से प्रोफ़ेशनल्स के जीवन की स्थिति पर खरी उतरती है. लोगों के जीवन का कोई-न-कोई पक्ष ऐसा रह जाता है जिसे लेकर वे खुश नहीं होते. यदि नौकरी में पैसा अच्छा-खासा मिल रहा होता है तो वे काम को पसंद नहीं करते. यदि मनचाहा काम करते हैं तो पैसे की तंगी से जूझते हैं. यदि काम और पैसा दोनों ही मनचाहा होता है तो अपने लिए और परिवार के लिए वक्त नहीं मिलता. यदि सब कुछ मिलता है तो भीतर दबी किसी चाह को पूरा नहीं कर पाने की कसक दिल में बनी रहती है. इकिगाई वह पैशन है जिसके लिए लोग आनेवाली हर सुबह जगकर चाहे-अनचाहे अपने काम में लग जाते हैं.

लेकिन इसका पता कैसे चलेगा कि आपका पैशन क्या है? यह सवाल मैंने खुद से और अपने जानने वालों से कई बार किया है. पहले मुझे लगता था कि केवल नई पीढ़ी के लोग (1990 के बाद जन्मे) ही इसे लेकर बहुत उत्साहित हैं लेकिन यह सही नहीं है. बाद में मैंने कुछ रिसर्च देखीं जिससे यह पता चलता है कि मेरी पीढ़ी (1970-80 के दौरान जन्मे) लोग भी अपना कैरियर उस क्षेत्र में बनाने की बात सोचते हैं जिस क्षेत्र में उनका पैशन है.

बहुतों को लगता है कि अपने पैशन की खोज करने का विचार पश्चिमी देशों से आया है लेकिन यह बात भी सही नहीं है. हमने ऊपर यह जाना था कि इकिगाई  जापानी शब्द है और अन्य संस्कृतियों में भी इससे मिलते-जुलते विचार उपलब्ध हैं. डाइग्राम के हवाले से मैं पहले बता चुका हूं लेकिन यहां फिर से दोहरा रहा हूं कि किसी भी चीज़ को इकिगाई होने के लिए उसमें ये चार बातें अनिवार्य रूप से होनी चाहिएः

  1. जिससे आप प्रेम करते हैं,
  2. जिसे करने में आप प्रवीण हैं,
  3. जिसकी दुनिया को ज़रूरत है, और,
  4. जिससे आप पैसा कमा सकते हैं.

तो आपके मामले में जो एक्टिविटी ऊपर दी गई चारों शर्तों को पूरा करती हो उसे आप अपनी इकिगाई कह सकते हैं. मैं अपने बारे में कहूं तो ट्रांसलेशन और ब्लॉगिंग मेरी इकिगाई है और इन चारों शर्तों को पूरा करती है.

अब मैं आपको कुछ टिप्स देने जा रहा हूं जिनसे आपको अपनी इकिगाई को पहचानने और फ़ॉलो करने में मदद मिलेगी:

वह उद्देश्य खोजिए जिसमें आप गहराई से यकीन करते हों: लोग अपना पैशन या इकिगाई कई तरह से खोज सकते हैं.. जीवन को बदल देने वाले अच्छे-बुरे अनुभव, गहन आंतरिक विचार-विमर्श, या जीवन की दिशा को बदल देने वाली किसी घटना का अचानक से हो जाना जीवन के उद्देश्य से परिचित करा सकता है. अपने जिस दृढ़ उद्देश्य की आप बहुत परवाह करते हैं उसे खोजने की ललक आपको अपने प्रति ईमानदार बनाए रखेगी और कठिन दिनों में भी आपका फ़ोकस बनाए रखेगी. अपने परपज़ को खोजने की शरुआत आप खुद से एक प्रश्न पूछकर कर सकते हैं, और वह प्रश्न यह हैः “मैं इस दुनिया में कौन सा परिवर्तन देखना चाहता हूं?”

सोचना बंद कीजिए और काम करना शुरु कीजिएः यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जिसके कई पैशन हैं या जो सही घड़ी का इंतज़ार कर रहा है तो आप यह जान लें कि अपने पैशन को फॉलो करने की कोई उम्र नहीं होती. मार्क ज़ुकरबर्ग ने फेसबुक 19 वर्ष की अवस्था में बनाया, दूसरी ओर चार्ल्स फ़्लिंट ने IBM कंपनी तब बनाई जब वे 61 वर्ष के हो चुके थे. अपने वास्तविक पैशन की पहचान बार-बार प्रयास करते रहने और असफल होने से होती है. इस यात्रा में हर कदम अहम होता है और आपको आपके लक्ष्य की ओर ले जाता है. मैं आपको सलाह दूंगा कि यदि आप बहुत सारे पैशन को फॉलो करते हैं तो उनकी लिस्ट में कटौती करके अपने टॉप के 2 पैशन तक ले आएं.  फिर आप पूरे मन से उन्हें फॉलो करें और इस बात का निर्णय करें कि आप अंततः क्या करना चाहते हैं.

अापके जैसा पैशन रखने वालों के संपर्क में रहें: उन व्यक्तियों के संपर्क में रहें जिनके पैशन और रूचियां आप जैसी हैं. उन लोगों से भी मिलें-जुलें जो आपके पैशन को फॉलो करके देख चुके हैं. इस मेल-जोल से आपको एक-दूसरे के विचारों से परिचित होने का और उनके साथ मिलकर काम करने का मौका मिलेगा. आप उनकी गलतियों से सीख सकते हैं और वे भी आपको आपकी गलतियों के बारे में बता सकते हैं. इसके विपरीत यदि आप अकेले चलेंगे तो अपनी मौजूदगी का अहसास कराना असंभव तो नहीं बल्कि कुछ कठिन ज़रूर हो जाएगा. एक जैसे पैशन को फ़ॉलो करनेवाले जब साथ में काम करते हैं तो उनमें स्वस्थ प्रतिस्पर्धा होती है, जिससे बहुत प्रतिभाशाली व्यक्तियों की पहचान करना सरल हो जाता है.

राह में लगनेवाली ठोकरों से विचलित न हों: जब व्यक्ति अपने दिल की सुनकर अपने पैशन या इकिगाई को फॉलो करता है तो अनजानी राहों पर चलने के कारण ठोकरें भी लगती हैं. उसे सफ़र के साथी नहीं मिलते. कोई गाइड भी साथ नहीं होता. उसके विचारों को लोग बेतुका और बेकार बताकर लोग मजाक उड़ाते हैं. जीवन के महत्वपूर्ण पड़ावों पर गंभीर आर्थिक संकट भी गहरा सकते हैं. अलीबाबा कंपनी के फ़ाउंडर जैक मा के साथ यह सब हो चुका था. उसने राह की इन टोकरों और बाधाओं को चुनौती की तरह लिया. वह कई बार गिरा और हर बार धूल झाड़कर फिर चलने लगा. इसके सिवाय और कौन सा विकल्प हो सकता था?

अपनी इकिगाई या पैशन की पहचान कीजिए. इसे फॉलो करना ही नहीं बल्कि इसकी खोज करना भी आत्मविकास की दिशा में आपके जीवन की सबसे महत्वपूर्ण यात्रा हो सकती है. यह यात्रा चुनौतियों और कंटकों से भरी होगी. आपके मार्ग में उतार-चढ़ाव और खराब मौसम आते-जाते रहेंगे. आपको मन में विश्वास बनाए रखना है और यह भी जान लेना है कि बड़ी यात्राएं एक रात में पूरी नहीं होतीं. आप अपने घर की आरामकुर्सी पर बैठे रहकर इस बात का इंतज़ार नहीं कर सकते कि किसी दिन कोई आपको सुनहरे भविष्य की चाबी दे जाएगा. आपको उठना है, चलना है, और मंजिल तक पहुचे बिना रुकना नहीं है.

Photo by Roman Kraft on Unsplash. Ikigai diagram from Flickr

Advertisements

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.