About

The English ‘About’ follows the Hindi version.

हिंदीज़ेन इंटरनेट पर अपनी तरह का सबसे ज्यादा पढ़ा जानेवाला हिंदी ब्लॉग है. यह जीवन में शांति, प्रसन्नता, आध्यात्मिकता, कर्मशुद्धि, अच्छी आदतें विकसित करना, उद्देश्यों की प्राप्ति, उत्पादकता, परिवेश में सुव्यवस्था का निर्माण, कर्मठता, प्रेरणा, सरलीकरण, सहजता, और मिनिमलिस्म आदि पर सर्वश्रेष्ठ सामग्री प्राप्त करने का स्रोत बन गया है.

संक्षेप में कहें तो हिंदीज़ेन सरल-सहज ज्ञान अथवा जानकारी को प्राप्त करने और उसे हमारे जटिल जीवन में उतारने के सूत्र उपलब्ध कराता है. पिछले 6 वर्षों में हिंदीज़ेन शांति और प्रसन्नता की युक्तियाँ सहेजने वाली अग्रणी वेबसाइट के रूप में उभरा है और इतने समय में ही इसपर 12 लाख से ज्यादा आगंतुकों ने आमद दर्ज कराई है. हिंदी के ब्लौगों के लिए तो यह छोटी संख्या भी बड़ी उपलब्धि है.

मैं, निशांत मिश्र, हिंदीज़ेन का संस्थापक/प्रशासक हूँ. मैं नई दिल्ली में अनुवादक का कार्य करता हूँ. यह ब्लॉग पहले ब्लौगर पर था. मई-2009 में यह वर्डप्रेस.कॉम पर स्थापित हो गया. 2013 तक इसमें 600 से भी अधिक पोस्ट प्रकाशित हो चुकी हैं. इन पोस्ट में आपको उत्तम प्रेरक प्रसंग, लेख, ज़ेन, ताओ, सूफी बोध/नैतिक कथाएं; कवितायेँ/गीत, प्रसिद्द व्यक्तियों के संस्मरण, बच्चों के लिए ज्ञानवर्धक कहानियां, लोक-कथाएं, और अंग्रेजी के कुछ प्रसिद्द ब्लौगरों के लेख आदि के अनुवाद पढ़ने को मिलेंगे.

हिंदीज़ेन पर प्रकाशित होनेवाली सभी पोस्ट पब्लिक डोमेन में हैं. यदि आप इनका प्रयोग अन्यत्र करें तो ब्लॉग का लिंक दें अथवा मुझे सूचित करें. इस बारे में यहाँ भी पढ़ लें.

ब्लॉग में छपनेवाली नई पोस्टों को पढ़ने के लिए आप ईमेल अथवा फ़ीड रीडर पर इसकी सदस्यता ले सकते हैं. यदि आप फेसबुक पर हैं तो कृपया इसे लाइक या फौलो करें. आपको नई पोस्ट की जानकारी फेसबुक वाल पर मिल जायेगी.

मेरा ईमेल है: nishant-mishra [at] hotmail [dot] com

Hindizen is one of the most visited Hindi blogs of its kind on the Internet. It covers happiness, spirituality, cleaning up your karma, successfully implementing good habits, achieving goals, productivity, being organized, GTD, motivation, inspiration, simplifying, and minimalism.

In short, Hindizen is about reflecting on simple wisdom and learning new ways to apply it to our complex lives. Over the last 6 years, Hindizen has emerged as a leading resource for peace and happiness, with more than 12,00,000 views… and counting.

Hindizen was founded by me, Nishant Mishra, a translator from New Delhi. Earlier, it was on Blogger and was brought to WordPress.com in May-2009. More than 600 posts have appeared in Hindizen (up to 2013) and these include great motivational and inspiring anecdotes, articles, Zen, Tao, Sufi, moral stories; poems/songs; memoirs and quotes of great souls, statesmen, writers, & scientists; stories for children; amusing folktales, and posts of celebrity bloggers.

All the posts here at Hindizen are in the public domain. They may be used or altered in any manner with attribution or notice to me. Read more about it here.

You can subscribe to the blog in any feed reader or get forthcoming posts in your email. You can also get notifications of new posts if you follow/like this blog on Facebook.

My e-mail is: nishant-mishra [at] hotmail [dot] com

About these ads