सत्य

सच : Truth

स्पेन के अखबार “ला वेनगार्दिया” में यह छपाः “सच क्या है?”, स्पेन की एक अदालत के न्यायाधीश जोसेप मारिया पिजुआन ने बलात्कार की शिकार एक 11 वर्षीय लड़की से अदालत में पूछा. जोसेप इस बात की तस्दीक कर लेना चाहते… Read More ›

सत्य का धरातल : The Land of Truth

एक बार किसी आदमी को यह लगने लगा कि सामान्य जीवन में परिपूर्णता नहीं है और उसे सत्य की प्राप्ति करनी चाहिए. उसने ज्ञानी गुरु की खोज करना शुरू कर दिया. उसने बहुत से ग्रन्थ पढ़े, कई मठों में प्रवेश… Read More ›

परम सत्य

“लोग अक्सर ही सत्य को भूल क्यों जाते हैं”, यात्री ने गुरु से पूछा. “कैसा सत्य?”, गुरु ने पूछा. “मैं जीवन में कई बार सत्य के मार्ग से भटक गया”, यात्री ने कहा, “और हर बार मैं किसी भांति मार्ग… Read More ›

सत्य का स्वरूप – Bodhidharma’s Skin, Flesh, Bones and Marrow

सत्य पर चर्चा चल रही थी कि मैं भी आ गया. सुनता हूं. जो बात कह रहे हैं, वे अध्ययनशील हैं. विभिन्न दर्शनों से परिचित हैं. कितने मत हैं और कितने विचार हैं, सब उन्हें ज्ञात मालूम होते हैं. बुद्धि… Read More ›

सत्य का स्वाद

एक राजा ने एक महात्मा से कहा – “कृपया मुझे सत्य के बारे में बताइये. इसकी प्रतीति कैसी है? इसे प्राप्त करने के बाद की अनुभूति क्या होती है?” राजा के प्रश्न के उत्तर में महात्मा ने राजा से कहा… Read More ›

सत्य छुपा दो : Hide the Truth

एक बार परमेश्वर ने मनुष्य के सिवाय सभी प्राणियों को अपने पास बुलाया और उनसे कहा – “मैं मनुष्यों से कुछ छुपाना चाहता हूँ. मैं परमसत्य को मनुष्यों से छुपाना चाहता हूँ लेकिन समझ नहीं पा रहा कि उसे कहाँ… Read More ›

अर्धसत्य और छद्मसत्य के भ्रामक निष्कर्ष

किसी बड़े पानी के जहाज में एक नाविक था जो उसमें तीन साल से काम कर रहा था. वह कभी भी शराब नहीं पीता था लेकिन एक रात को उसने दोस्तों के उकसावे में आकर शराब पी ली. उसी रात… Read More ›

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 7,780 other followers