आत्मविश्वास

सफलता के लिए सबसे ज़रूरी 12 सबक

यह लेख Forbes मैगज़ीन के कॉंट्रीब्यूटर ट्रेविस ब्रैडबरी के आर्टिकल 12 Lessons You Learn Or Regret Forever का अनुवाद है जो उनकी लिखित अनुमति से यहां पोस्ट किया जा रहा है. अपने पैरों पर खड़ा होना और कैरियर की राह… Read More ›

सीखते रहें…

कभी-कभी छत पर बनी सिंटेक्स की टंकी की हालत जांचने के लिए ऊपर चढ़ना पड़ता है. इसमें दिक्कत यही है कि ऊपर जाने के लिए सीढ़ियाँ नहीं बनाई गयीं हैं और बांस की बनी नसैनी की मदद लेनी पड़ती है…. Read More ›

व्यक्तित्व विकास : पाठक व कर्ता में अंतर

आपके अनुमान से कितने लोग होंगे जो व्यक्तित्व विकास की पुस्तकें या लेख आदि पढ़ते हैं और अपने जीवन में अपेक्षित परिवर्तन ला पाते हैं? आप कहेंगे कि ऐसे लोग कम ही हैं. इस लेख को पढ़िए और आप यह… Read More ›

“अच्छा” आदमी बने रहने के खतरे

“आप बहुत अच्छे आदमी हैं” या “you are very nice”. अक्सर ही किसी से भी यह सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी होती थी. मुझे लगता था कि यह किसी भी व्यक्ति से मिलनेवाली सबसे बढ़िया प्रशंसोक्ति है. फिर मुझे अपने और… Read More ›

आदतों से छुटकारा : सफलता की सीढ़ी

यह पोस्ट मेरे प्रिय ब्लौगर लियो बबौटा की एक पोस्ट का अनुवाद है जिसमें हमेशा की तरह मैंने मामूली फेरबदल किये हैं. मूल अंग्रेजी पोस्ट पढ़ने के लिए आप यहाँ क्लिक करें. बहुत से लोग अपने जीवन के बहुत से… Read More ›

ज़िंदगी को मुश्किल बनानेवाले 7 अचेतन विचार

हम लोगों में से बहुत से जन अपने मन में चल रहे फालतू के या अतार्किक विचारों से परेशान रहते हैं जिसका हमारे दैनिक जीवन और कामकाज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. ये विचार सफल व्यक्ति को असफल व्यक्ति से… Read More ›

ख़ुदी को कर बुलंद इतना…

(यह पोस्ट पाउलो कोएलो के ब्लॉग से लेकर पोस्ट की गयी है) जीवन में हमें सदैव स्थापित मानकों और रूपकों के सहारे ही चलने की आदत हो जाती है. मुझे हैम्बर्ग में एक पाठक मिला जो जीवन के उन्नयन से… Read More ›

सर जगदीशचंद्र बोस का संकल्प

आज बात करेंगे भारत के महान वैज्ञानिक सर जगदीशचंद्र बोस की, जिन्होंने पेड़-पौधों में संवेदनाएं होने की बात सिद्ध करके संसार को आश्चर्यचकित कर दिया था. इस महान खोज के अलावा बोस ने बेतार (wireless) तकनीक का प्रयोग करके रेडियो… Read More ›

लिप्टन की चाय

अंग्रेजों ने बहुत सारी चीज़ों से भारतीयों का परिचय कराया. चाय भी उनमें से एक है. मेरे दादा बताते थे कि जब शुरुआत में चाय भारत में आई तो उसका बड़ा जोरशोर से प्रचार किया गया लेकिन कोई उसे चखना… Read More ›

डेविड और गोलिएथ की कहानी

किसी गाँव में गोलिएथ नामक दैत्य बार-बार आकर वहां के निवासियों को खा जाता था. एक दिन गाँव में डेविड नामक 15 वर्षीय गड़रिया अपने मित्र से मिलने के लिए आया. उसने अपने मित्र से पूछा – “तुम सभी मिलकर… Read More ›

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 7,787 other followers