Quotations

To the Living : जीवन के प्रति

किसी ने दलाई लामा से पूछा, “मनुष्यों के संबंध में वह कौन सी चीज़ है जो आपको सबसे अधिक आश्चर्यचकित करती है?” दलाई लामा ने कहा. “स्वयं मनुष्य… क्योंकि वह पैसे कमाने के लिए अपने स्वास्थ्य को गंवाता है. फिर… Read More ›

हारुकी मुराकामी – Haruki Murakami Quotes

हारुकी मुराकामी (जन्म 1949) हमारे दौर के सबसे महत्वपूर्ण लेखकों में हैं. मुझे उनकी कही तकरीबन हर बात बहुत गहरी प्रतीत होती है. मैंने उनकी किताबों से कुछ quotes लेकर उनका अनुवाद करने का प्रयास किया है. यदि तुम वही… Read More ›

जहाँ ज़िंदगी है, वहां उम्मीद है

मार्कस तूलियस सिसेरो (जन्म – 106 ईसा पूर्व और मृत्यु 43 ईसा पूर्व) रोमन राजनीतिज्ञ, विधिवेत्ता, और वक्ता था. उसके कई कथन दो हज़ार साल बाद भी उद्घृत किये जाते हैं: 1. जहाँ ज़िंदगी है, वहां उम्मीद है. 2. क्या… Read More ›

मनुष्यता से दिव्यता की ओर

तुम्हारी आत्मा, चेतना, और जीवन दिव्यता का अंश है. यह ईश्वर का ही विस्तार है. तुम स्वयं को ईश्वर तो नहीं कह सकते पर ईश्वर से एकात्म्य तुम्हारा जन्मसिद्द अधिकार है. पानी की एक बूँद सागर नहीं हो सकती लेकिन… Read More ›

सत्य वचन – एपिक्टेटस (1)

एपिक्टेटस (जन्म वर्ष 55 – मृत्यु  वर्ष 135) यूनानी महात्मा और स्टोइक दार्शनिक थे. उनका जन्म वर्तमान तुर्की में एक दास परिवार में हुआ था. उनके शिष्य आरियन ने उनकी शिक्षाओं को संकलित किया जिन्हें ‘उपदेश’ कहा जाता है. एपिक्टेटस… Read More ›

मैं यह जान गयी हूँ कि… : I’ve learned that

मैं यह जान गयी हूँ कि कितना ही बुरा क्यों न हुआ हो और आज मन में कितनी ही कड़वाहट क्यों न हो, यह ज़िंदगी चलती रहती है और आनेवाला कल खुशगवार होगा. मैं यह जान गयी हूँ कि किसी… Read More ›

आलोचक

(यह पोस्ट पाउलो कोएलो ने अपने ब्लौग में लिखी है) मुझे अक्सर मेरे प्रिय पाठक ई-मेल करके बताते हैं कि उन्हें मेरी किसी नई किताब का रिव्यू या आलोचना पढ़कर बहुत बुरा लगा क्योंकि वे उस रिव्यू या आलोचना से… Read More ›

मिले-जुले सुभाषित

~ सबसे धनी वह नहीं है जिसके पास सब कुछ है, बल्कि वह है जिसकी आवश्यकताएं न्यूनतम हैं. ~ साहस भय की अनुपस्थिति नहीं है. यह तो इस निर्णय तक पहुँचने का बोध है कि कुछ है जो भय से… Read More ›

जॉर्ज कार्लिन की बातें

~ हर दोषदर्शी आदमी के भीतर एक हताश आदर्शवादी छुपा रहता है. ~ कुछ लोग कुछ देखते हैं और पूछते हैं – “ऐसा क्यों होता है?”. कुछ लोग  सपने में कुछ देखकर पूछ बैठते हैं – “ऐसा क्यों नहीं होता?”. और… Read More ›

साल्वाडोर डाली

रेखांकन सबसे ईमानदार कला है. इसमें धोखाधड़ी की गुंजाईश नहीं है. रेखाचित्र या तो अच्छा होता है या बेकार. परिपूर्णता से मत डरो. यह तुम्हें कभी नसीब नहीं होगी! मैं किसी शख्स के चेहरे से मेल खाता पोर्ट्रेट नहीं बनाता… Read More ›

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 7,777 other followers