इंटेलीजेंट व्यक्तियों की पहचान कैसे होती है?

कुछ दिन पहले हिंदीज़ेन पर पोस्ट औसत से अधिक बुद्धिमान व्यक्ति होने के क्या लक्षण होते हैं? प्रकाशित की गई थी. यह पोस्ट भी उससे मिलती-जुलती ही है और इसमें बहुत रोचक बिंदुओं में इंटेलीजेंट व्यक्तियों की पहचान की गई है. यदि आप इंटेलीजेंट हैं तो आपमें भी नीचे दिए गए बातों में से कई मौजूद होंगीः

1. इंटेलीजेंट लोगों का सोशल सर्किल बड़ा नहीं होता. उनके दोस्त बहुत पुराने और गिने-चुने ही होते हैं. असल में आप जितने स्मार्ट होते हैं, आप उतने ही अधिक सेलेक्टिव हो जाते हैं और बहुत सोचसमझ कर ही किसी से घुलते-मिलते हैं.

2. इंटेलीजेंट व्यक्ति किसी तरह की बहस या लड़ाई-झगड़े से दूर रहना पसंद करते हैं. यही कारण है कि अक्सर ही वे बहुत सी बातों को जानबूझकर नज़रअंदाज़ कर देते हैं.

3. वे अक्सर ही खुद से बातें करते रहते हैं. वे मन-ही-मन बहुत सारी बातों पर खुद से ही डिस्कस करते हैं. यह उनके लिए बहुत संतोषजनक एक्टीविटी होती है.

4. इंटेलीजेंट लोग हर बात में, हर घटना में, हर चीज़ में पॉज़िटिविटी और अवसर तलाशते हैं जबकि दूसरे लोग औरों की गलतियां और कमियां खोजते रहते हैं.

5. इंटेलीजेंट व्यक्ति अपनी काबिलियत को आम तौर पर कम करके आंकते हैं. वे बड़बोले नहीं होते. वे डींग नहीं हांकते. वे बिना पूछे किसी को कुछ नहीं बताते.

6. इंटेलीजेंट व्यक्ति अकेला रहना पसंद करते हैं और इसे एंजॉय भी करते हैं. उन्हें अकेलापन तकलीफ़ नहीं देता. वे सबसे अधिक क्रिएटिव और प्रोडक्टिव तभी होते हैं जब उन्हें उनकी पसंद का काम करने दिया जाए.

7. इंटेलीजेंट लोग कठोर या रूखे नहीं होते. उनके भी दिल होता है लेकिन वे दिल की बजाए दिमाग से काम लेते हैं. वे हर बात के अलग-अलग पहलुओं पर अलग-अलग एंगल से सोचकर किसी नतीजे तक पहुंचते हैं.

8. इंटेलीजेंट होने का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि बेवकूफ लोग उन्हें अपने जैसा ही समझते हैं. इंटेलीजेंट व्यक्तियों के साथ रहने का फ़ायदा उठाने के लिए भी थोड़ी अकल की ज़रूरत होती है.

9. इंटेलीजेंट व्यक्तियों को चलताऊ मनोरंजन पसंद नहीं आता. वे लटके-झटके और शोर-शराबे वाली फिल्मों और म्यूज़िक से दूर रहते हैं. वे मॉल भी जाते हैं तो किताबों की दुकान में घुस जाते हैं.

10. आमतौर पर इंटेलीजेंट व्यक्तियों की हैंडराइटिंग अच्छी नहीं होती. इसका कारण यह है कि वे बहुत तेजी से सोचते हैं लेकिन उतनी तेजी से लिख नहीं पाते, इसलिए उनकी हैंडराइटिंग बिगड़ जाती है.

By Takudzwa Razemba, Seeker of Truth. Photo by Attentie Attentie on Unsplash

There are 4 comments

विकास वर्मा को एक उत्तर दें Cancel

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.