हमारे समाज और सोशल मीडिया के साथ सबसे बड़ी समस्या क्या है?

मुझे लगता है कि हमारी मीडिया और सोशल मीडिया को सिर्फ सफल लोगों की कहानियां चाहिए. इसे असफल लोगों से कोई मतलब नहीं है.

सफल लोगों की कहानियां कैसी होती हैं? लोग पैसे वाले हो जाते हैं, लोग फेमस हो जाते हैं, लोग बहुत सारा वजन कम कर लेते हैं, लोगों को वह मिल जाता है जिसकी उन्होंने कभी कोई उम्मीद भी नहीं की होती.

इनमें से बहुत सारी कहानियां प्रेरक होती हैं और पढ़ने वाले में आशा का संचार भी करती हैं. हम ऐसी कहानियों को पढ़ना पसंद करते हैं और उन्हें नेट पर देखते भी हैं. हम इन कहानियों को अपने मित्रों के साथ शेयर करते हैं जिसके परिणाम स्वरुप वे वायरल हो जाती हैं और बहुत बड़े वर्ग तक उनका प्रसार हो जाता है.

तो इसमें इसमें समस्या क्या है?

इसमें समस्या यह है कि यह हर चीज को बहुत आसान बताती है.

कभी-कभी हमें सिर्फ दो फोटो दिखाए जाते हैं जिसमें से पहले फोटो में एक बहुत मोटे व्यक्ति को देखते हैं और दूसरे फोटो में हमें कुछ शब्दों में यह बताया जाता है कि इस व्यक्ति ने इतने दिनों में इतने सारा किलो वजन कम कर लिया.

कभी-कभी हमें एक छोटा सा एक पेज का आर्टिकल पढ़ने को मिलता है जिसमें यह बताया जाता है कि एयरबीएनबी नामक एक कंपनी इतने छोटे स्तर से शुरू हुई और देखते ही देखते वह बहुत बड़ी और सफल कंपनी में बदल गई और उसके संस्थापक अरबपति बन गए.

कभी हमें एक छोटा सा वीडियो देखने को मिलता है जिसमें कोई सफल इंटरप्रेन्योर यह बताता है कि उसने कैसे एक शानदार प्रोडक्ट बेचकर अपना पहला मिलियन डॉलर कमा लिया.

ये कहानियां छोटी-छोटी होती हैं. इनमें ज्यादा डिटेल्स नहीं होते. ये उस दुख, दर्द, असफलता, संघर्ष, त्याग और परिश्रम के बारे में हमें नहीं बताती जिनका सामना करना पड़ा. सफलता पाने के लिए किए गए प्रयासों के बारे में भी बहुत कुछ नहीं बताया जाता.

इनमें बस इतना बताया जाता है कि शुरूआत कितनी कठिन थी और सफलता कितनी गौरवशाली रही.

और यही इनकी प्रमुख समस्या है.

इन कहानियों को पढ़ने और देखने के बाद कुछ लोगों को लगने लगता है कि सफलता प्राप्त करना बहुत आसान है इसलिए वे भी मैदान में कूद पड़ते हैं और संघर्ष करने लगते हैं.

इनमें से कुछ लोग जल्दी हार मान कर छोड़ देते हैं और कुछ लोग डाइट पिल की तरह लाइफ़हैक आजमाने लगते हैं. वे सफल व्यक्तियों द्वारा लिखी गई “रातों रात करोड़पति कैसे बनें” जैसी ईबुक्स मंगाकर पढ़ते हैं और उन्हें लगता है कि इन किताबों में दिए गए शॉर्टकट आजमाने पर वे भी रातोंरात करोड़पति बन जाएंगे.

लेकिन सफलता का कोई हैक या शॉर्टकट नहीं होता. हमें सफल होने के लिए अपना सबकुछ झोंकना पड़ता है. हमें अपना पूरा समय, पैसा, परिश्रम लगाना पड़ता है और घनघोर प्रयास करना पड़ता है. हमें अपने दिल पर पत्थर रखकर बहुत बड़े त्याग करने पड़ते हैं. हमें किसी बोझा ढोने वाले जानवर की तरह जीते रहकर एक-एक कदम आगे बढ़ना होता है. हमें यह जानते हुए भी हर बाधा को पार करते रहना पड़ता है कि हमें सफलता मिलने की संभावना कभी-कभी न-के-बराबर होती है.


हमारे समाज के साथ आज सबसे बड़ी समस्या यह है कि इसमें बिना किसी परिश्रम, प्रयास, समर्पण और त्याग के ही सफलता प्राप्त करने की इच्छा रखने वालों की संख्या बहुत अधिक हो गई है, और इससे होने वाला सबसे बड़ा नुकसान यह है कि हमारे समाज में ऐसे लोगों की बहुतायत हो गई है जो सफल होने के सपने देखते रहते हैं और इसके लिए हर तरह के शॉर्टकट आजमाते रहते हैं.

Peter T Mayer द्वारा क्वोरा पर दिए गए एक उत्तर पर आधारित. Photo by Marleen Trommelen on Unsplash

Advertisements

There is one comment

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.