कौन सी बात हमें सबसे अधिक मोटीवेट कर सकती है?

मेरी समझ से वह बात कोजो किसी को भी सबसे अधिक मोटीवेट कर सकती है – वे केवल तीन सपाट शब्द हैं : “तुम मर जाओगे”.

मेरा उद्देश्य आपको डराना या चौंकाना नहीं है. मैं एक बिल्कुल प्रैक्टीकल बात कर रहा हूं. आपको एक ही जीवन मिला है और इसे खुशहाल बनाने के मौके भी आपको कुछ-एक ही मिलेंगे. खाली बैठकर दुनिया से और ज़िंदगी से अपनी उम्मीदों के पूरे नहीं होने पर अफ़सोस मनाने और शिकायत करने की बजाए उठिए, कुछ करिए.

दुनिया में ज्यादातर लोग दूसरों की खुशियों पर फ़ोकस करते हैं जबकि उन्हें अपनी ज़िंदगी पर फ़ोकस करना चाहिए. क्या आप जानते हैं कि मैं लोगों को प्रेरित करनेवाली, अपने जीवन का परपज़ खोजने वाली, और प्रेरित करनेवाली बातें क्यों लिखता हूं? क्योंकि मैं वाकई अपनी ज़िंदगी से बहुत खुश हूं.

यह आपको स्वार्थपरकता लग रही होगी लेकिन आपका उद्देश्य सबसे पहले खुद को खुश और संतुष्ट करना होना चाहिए. इसके बाद ही आप दूसरों के जीवन की फिक्र कर सकते हैं, उन्हें खुश कर सकते हैं.

मैं चाहता हूं कि आप अपने प्रति पूरी ईमानदारी बरतें और खुद से यह पूछें कि जो कुछ भी आप कर रहे हैं वह आपको सफल होने में कितना सहायक होगा. मैं केवल बिजनेस के बारे में ही नहीं बल्कि जीवन के हर पक्ष के बारे में कह रहा हूं. जब आप अपने जीवन से खुश होते हैं तो आपको अहसास होता है कि पैसे की मात्रा से अधिक महत्व इस बात का हो जाता है आप पैसा कैसे कमाते हैं.

किशोरावस्था से ही मैंने अपना बहुत सा समय बुजुर्ग व्यक्तियों के साथ बिताना शुरु कर दिया था, ऐसे लोग जिनकी उम्र 80-90 साल से भी अधिक थी. मैं उनसे ज्यादातर अपनी यात्राओं के दौरान या वाइन इंडस्ट्री में काम करने के दौरान मिलता था, और उनसे उनके जीवन के बारे में विस्तार से बताने के लिए कहता था. उनमें से ज्यादातर लोग ये दो शब्द “काश… मैं” का बहुत इस्तेमाल करते थे. इन शब्दों से उनके जीवन का अफ़सोस झलकता था. कुछ लोगों को इस बात का अफ़सोस था कि उन्होंने कड़ी मेहनत नहीं की. कुछ को इस बात का दुःख सताता था कि उन्होंने अपने प्रियजनों के साथ बेहतर वक्त नहीं गुज़ारा. और कुछ को यह ग़म सालता था कि उन्होंने अपने माता-पिता के सपनों को पूरा करने के लिए अपनी आकांक्षाओं को बिसरा दिया. वे पछतावे, रंज, खेद, अफ़सोस से भरे थे.

उन बुजुर्गों के साथ वक्त बिताने से जो एकमात्र सबसे महत्वपूर्ण बात मुझे पता चली वह यह है: यदि आपको कुछ सार्थक कुछ महत्वपूर्ण करना है तो इस समय से बेहतर कोई दूसरा समय नहीं है.

यदि आप कॉलेज से हाल ही में निकले हैं तो आपका समय शुरु हो चुका है. इस क्षण यह ज़रूरी है कि आप साल भर के भीतर शानदार कार खरीदने जैसा कोई लक्ष्य नहीं बना लें जो आपको पैसे के पीछे पागलों की तरह भागने पर मजबूर कर दे. यह समय इस बात को जान लेने का है कि आपके पास लगभग पांच साल का वक्त है जिस दौरान आपको ज़िंदगी की जंग जीतने के लिए कमर कस लेनी है. आपको अपने कार्यस्थल पर भरपूर काम करना है लेकिन दोस्तों के साथ दुनिया भर घूमकर तरह-तरह के अनुभव भी प्राप्त करने हैं. अपने टैलेंट का फ़ायदा उठाने के लिए आपको म्यूज़िक बैंड भी बनाना है. बिजनेस की बारीकियां सीखने के लिए आपको नेटवर्किंग में भी हाथ आजमाना है. और ये सारे काम आपको अपने तीन दोस्तों के साथ उस घोंसलेनुमा अपार्टमेंट में रहते हुए करने हैं. चूंकि आप और आपके दोस्तों को अभी शादी और बच्चों जैसी अहम जिम्मेदारियां नहीं उठानी हैं इसलिए यही आपके जीवन का वह कालखंड है जब आप पूरी तरह अकेले रहकर अपने दम पर अपनी ज़िंदगी को दिशा देने वाले निर्णय ले सकते हैं.

भले ही आप 40 या 50 वर्ष के या उससे भी अधिक आयु-वर्ग के हों, जीवन को खुशहाल बनाने के विकल्प अभी खत्म नहीं हुए हैं. यदि आप खुश रहना चाहोगे तो आपको खुशी मिलेगी. जल्दी रिटायर होकर गोल्फ़ खेलने के सपने देखने से बेहतर होगा कि आप तब तक काम करने का निश्चय करो जब तक आपकी सेहत इसकी इजाज़त दे. अर्ली रिटायरमेंट एक बहुत बड़ा छलावा है. काम कभी खत्म नहीं होता और ज़िंदगी वक्त से पहले किसी को रिटायर होने का मौका नहीं देती. आज हम उस विश्व में रह रहे हैं जहां इंटरनेट ने अवसरों की अनेक खिड़कियां खोली हैं. आज हममें प्रतिभा और भीड़ को चीरकर आगे बढ़ने का हौसला हो तो हम हर क्षेत्र में लीडर-अचीवर बन सकते हैं.

इन बातों का सारांश क्या है? इस दुनिया में हमारे दिन नियत हैं. खुद आप और आपके सभी जानकारों में से लगभग सभी व्यक्ति 70-80 वर्षों के भीतर चल बसेंगे. यह एक कठोर सत्य है लेकिन इसे स्वीकर कर लेना चाहिए. आज आपकी उम्र कितनी भी हो, जीवन को खुशहाल बनाने के सारे मौके चूके नहीं हैं. यह मनुष्य के इतिहास का ऐसा विलक्षण समय है जब परिवर्तन सर्वाधिक गति से हो रहे हैं और हम अपने मनचाहे जीवन के स्वरूप को पा सकते हैं.

मैं इस पोस्ट को लिखने पर मजबूर हो गया था क्योंकि यह मेरे उन अनुभवों और अवलोकनों की प्रतिक्रिया है जो मुझे पिछले कुछ वर्षों में मिले हैं. मैंने बहुतेरे लोगों में वह प्रवृत्ति देखी है जिसके वशीभूत होकर वे हाथ आए अवसरों को गंवाते हैं क्योंकि उन्हें यह लगता रहता है कि वे उस काम को “किसी और दिन कर लेंगे”. लोग जीवन इस तरह जी रहे हैं जैसे उनके पास समय असीम हो. यह सब भयावह है. जीवन के अंतिम वर्षों में यह व्यक्ति को बहुत अधिक कड़वाहट से भर देता है.

यदि मैं इस पोस्ट के माध्यम से केवल एक व्यक्ति को उसके व्यवहार में परिवर्तन लाने पर विवश कर दूं, उसके मन में कुछ करने की प्रेरणा जगा दूं, उसे हाथ आए अवसर को मजबूती से जकड़ने का मौका दे दूं तो मुझे लगेगा कि मेरा यह सब लिखना सार्थक रहा. दिन खत्म होने से पहले हमारी बैटिंग की बारी ज़रूर आएगी.

“तुम मर जाओगे” जैसे कटु और अप्रिय प्रतीत होने वाले शब्द आपको सुबह उठते ही अपने उद्देश्य की पूर्ति करने में रत कर देने के लिए मंत्र के समान हैं. याद रखिए: आपके पास एक ही जीवन है और एक ही अवसर है. मनुष्य के जीवन का क्षय करने वाला असली विष उसका अपना पछतावा है, इसलिए बहानेबाजी बंद कीजिए और वह काम कीजिए जो आपको सच्ची खुशी और सफलता की ओर ले जाए.

मीडियम.कॉम पर आंत्रपेन्यूर और इंटरनेट पर्सनालिटी गैरी वेनेरचुक की पोस्ट का अनुवाद. इन बातों में मैंने अपने स्तर पर बहुत कुछ जोड़ा है.

Photo by Evan Kirby on Unsplash

Advertisements

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.