सोशल मीडिया और “पांच के औसत” का नियम

“पांच के औसत” के नियम को सोशल मीडिया पर लागू कीजिए.

प्रसिद्ध अमेरिकी लेखक और उद्योगपति जिम रोन ने कहा थाः

“तुम उन पांच व्यक्तियों का औसत हो जिनके साथ तुम सबसे ज्यादा वक्त गुजारते हो.”

अब खुद से पूछिए: “मैं सोशल मीडिया पर किन व्यक्तियों के कंटेंट को सबसे ज्यादा पढ़ता और देखता हूं?”

ज्यादातर लोग कहेंगे: “मैं तो अपनी फ़ीड में आनेवाले हर किसी व्यक्ति की लिखी और शेयर की गई बातें ही देखता हूं.”

सच कहिए, क्या आप वाकई हर किसी व्यक्ति जैसे बनना चाहते हैं या किसी खास व्यक्ति जैसा बनना चाहते हैं?

शायद आप किसी खास व्यक्ति जैसा बनना ही पसंद करेंगे.

सोशल मीडिया पर अच्छा खासा वक्त बिताने पर और रोज़ाना दसियों वीडियो, सैंकड़ों फ़नी इमेज और दुनिया भर की बातें पढ़ते, देखते, लाइक करते, और शेयर करते रहने पर भी हममें से अधिकांश जन अप्रसन्नता का अनुभव करते हैं क्योंकि हम इतनी अधिक मात्रा में सतही सामग्री से गुजरते हैं जो हमारी जानकारी नहीं बढ़ाती, हमें हमारे लक्ष्यों तक पहुंचने की प्रेरणा नहीं देती, हमें जीवन को सही दिशा देने के लिए राह नहीं सुझाती.

यदि आप दूसरों से बेहतर बनना चाहते हों तो यह तय कर लें कि आप सोशल मीडिया पर या अपने फ़्रेंड सर्किल में से सबसे अच्छे और सबसे प्रतिभावान पांच व्यक्तियों का चुनाव करेंगे और उन्हें छोड़कर बाकी लोगों को अनफॉलो कर देंगे. आप चाहें तो अपने परिवार के सदस्यों, कलीग्स और मेंटर्स को भी अपनी लिस्ट में रख सकते हैं.

लोगों को अनफॉलो करने के इस काम में यदि पूरा दिन भी लग जाए तो यह आपके हित में होगा.

यह काम हर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ करेंः फोसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस, वॉट्सअप…

मैं जानता हूं कि आप क्या सोच रहे हैं…

आपको लग रहा होगा कि यह काम करने पर आपको मित्र आपसे दूर हो जाएंगे, नाराज़ हो जाएंगे.

सच कहूं तो आपको उनकी नाराज़गी की परवाह नहीं करनी चाहिए. सुबह से लेकर देर रात तक अपने फोन की स्क्रीन पर फेसबुक को स्क्रोल करते रहनेवाले सोशल मीडिया दोस्तों को उनकी दुनिया में व्यस्त रहने दीजिए. यदि आप उनके कंटेंट को लाइक, शेयर या कमेंट करेंगे तो उन्हें बल मिलेगा. उन्हें इस बात की अनुमति न दें कि वे दिन भर आपका ध्यान लक्ष्य से भटकाते रहें.

आप जिन व्यक्तियों की तरह बनना चाहते हैं उनके जैसा बनने का एक ही उपाय है. इसपर ध्यान दें कि वे क्या पढ़ते और शेयर करते हैं. उनके सीखने और सोचने की प्रक्रिया और किसी भी बात पर प्रतिक्रिया देने की उनकी प्रवृत्ति का अवलोकन करें. यह जानने का प्रयास करें कि वे किस तरह से ग्रो करते हैं.

इसे छोड़कर सोशल मीडिया पर जो कुछ भी है वह आपकी प्रगति की राह में बाधक है.

यह बहुत शानदार लाइफ़-हैक है जो आपके जीवन को नया आयाम और आपको सोच को विस्तार दे सकता है. आपको सोशल मीडिया पर बस पांच सर्वश्रेष्ठ व्यक्तियों का चुनाव करना है… जिनकी तरह आप बनना चाहते हैं… जिन्हें आप रोल मॉडल मानते हैं… और बाकी सबको अनफॉलो कर देना है.

ये काम आज से ही शुरु कर दीजिए. आपका समय शुरु होता है… अब !

मुझपर भरोसा रखें. आप निराश नहीं होंगे.

Photo by Saulo Mohana on Unsplash

Advertisements

There is one comment

  1. हमेशा खुश रहनेवाले व्यक्तियों के स्वभाव की विशेषताएं हिंदीज़ेन : HindiZen

    […] देखभालकर, सोचविचार कर दोस्ती करने का अर्थ कैलकुलेशन करके स्वार्थी बनकर दोस्ती करना नहीं है. “You are the average of the five people we spend the most time with.” — Jim Rohn […]

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.