अच्छे पॉइंट्स – The Good Points

सौ साल से भी पहले सं. रा. अमेरिका के महान उद्योगपति जॉन डी. रॉकफ़ेलर के स्वामित्व में स्टैंडर्ड ऑइल कंपनी विश्व की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक थी. एक दिन कंपनी में काम करनेवाले एक कर्मचारी ने एक गलत निर्णय ले लिया जिसके परिणामस्वरूप कंपनी को 20 लाख डॉलर का घाटा हो गया. उन्नीसवीं शताब्दी के अंतिम वर्षों में यह बहुत बड़ी रकम थी.

एडवर्ड बेडफ़ोर्ड इस कंपनी में पार्टनर थे. वे रॉकफ़ेलर से मिलने के लिए गए. रॉकफ़ेलर के ऑफ़िस में दाखिल होने पर उन्होंने देखा कि रॉकफ़ेलर टेबल पर झुके हुए एक पेपर पर कुछ लिखने में व्यस्त थे. बेडफ़ोर्ड को देखने पर रॉकफ़ेलर ने उनसे कहा, “तुम्हें कंपनी को हुए नुकसान के बारे में तो पता ही होगा? मैं भी इसी बारे में सोच रहा था, इसीलिए मैं उस कर्मचारी से मिलकर बात करने से पहले कुछ नोट्स बना रहा हूं.”

बेडफ़ोर्ड ने टेबल पर रखे पेपर पर एक निगाह डाली, जिसपर रॉकफ़ेलर नें नोट्स लिखे थे. पेपर के सबसे ऊपर शीर्षक लिखा था, “मिस्टर …………… के पक्ष में पॉइंट्स.” इसके नीचे उस कर्मचारी के गुणों की लंबी लिस्ट थी और यह भी लिखा था कि पहले तीन मौकों पर उसके द्वारा लिए गए निर्णयों से कंपनी को हालिया नुकसान से भी कई गुना लाभ हुआ था.

बेडफ़ोर्ड ने बाद में कहा, “यह सबक मैं कभी नहीं भूल सकता. बाद में कभी जब मुझे किसी व्यक्ति की गलती पर भरपूर क्रोध करने का अवसर मिला तो मैंने कुछ देर भलीभांति सोचविचार के उसकी सारी अच्छी बातों की ओर ध्यान दिया. इसका परिणाम हर बार यही हुआ कि उसकी अच्छाइयों की लिस्ट बनाते-बनाते मुझे सारी चीजें स्पष्ट दिखने लगीं और मेरा क्रोध कम हो गया. इस आदत ने न जाने कितनी ही बार मुझे किसी भी एक्ज़ीक्यूटिव द्वारा की जाने वाली सबसे बड़ी गलती करने से बचा लिया, ये गलती है ‘अपना आपा खोना’.


Standard Oil was once one of the biggest companies in the world, led by the famous John D Rockefeller. On one occasion a company executive made a bad decision. It cost the firm $2 million. This was the late 1800’s and $2 million was a huge sum.

Edward Bedford, a partner in the company had an appointment to see Rockefeller. When he entered Rockefeller’s office he saw his boss bent over a piece of paper, busily scribbling notes. When Rockefeller finally looked up he said to Bedford, “I suppose you’ve heard about our loss? I’ve been thinking it over,” Rockefeller said, “and before I ask the man in to discuss the matter, I’ve been making some notes.”

Bedford looked across the table and saw the page Rockefeller had been scribbling on. Across the top of the page was the heading, “Points in favour of Mr. ……………” Below the heading was a long list of the man’s good qualities, including notes of three occasions where he had made decisions that had earned the company many times more than his error had lost.

Bedford later said, “I never forgot that lesson. In later years, whenever I was tempted to rip into anyone, I forced myself first to sit down and thoughtfully compile as long a list of good points as I possibly could. Invariably, by the time I finished my inventory, I would see the matter in its true perspective and keep my temper under control. There is no telling how many times this habit has prevented me from committing one of the costliest mistakes any executive can make — losing his temper.”

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 3 comments

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s