तीन बहनें : Three Sisters

एक बहुत बड़ा जादूगर अपनी तीन खूबसूरत बहनों के साथ दुनिया घूम रहा था। आस्ट्रेलिया में किसी प्रांत का एक प्रसिद्द योद्धा उसके पास आया और उससे बोला – “मैं तुम्हारी सुंदर बहनों में से किसी एक से विवाह करना चाहता हूँ”।

जादूगर ने उससे कहा -“यदि मैं इनमें से एक का विवाह तुमसे कर दूँगा तो बाकी दोनों को लगेगा कि वे कुरूप हैं। मैं ऐसे कबीले की तलाश में हूँ जहाँ तीन वीर योद्धाओं से अपनी तीनों बहनों का एक साथ विवाह कर सकूँ”।

इस तरह कई साल तक वे आस्ट्रेलिया में यहाँ से वहां घूमते रहे पर उन्हें ऐसा कोई कबीला नहीं मिला जहाँ एक जैसे तीन बहादुर योद्धाओं से उन बहनों का विवाह हो सकता।

वे बहनें इतने साल गुज़र जाने और यात्रा की थकान के कारण बूढ़ी हो गयीं। उन्होंने सोचा – “हममें से कोई एक तो विवाह करके सुख से रह सकती थी”।

जादूगर भी यही सोचताथा। वह बोला – “मैं ग़लत था… लेकिन अब बहुत देर हो गयी है”।

जादूगर ने उन तीन बहनों को पत्थर का बना दिया।

आज भी सिडनी के पास ब्लू माउन्टेन नेशनल पार्क जाने वाले पर्यटक पत्थर की उन तीन बहनों को देखकर यह सबक लेते हैं कि एक व्यक्ति की प्रसन्नता के कारण हमें दुखी नहीं होना चाहिए।

(~_~)

A wizard was strolling with his three sisters when the most famous warrior of the region came up to him. “I want to marry one of these beautiful girls,” he said.”If one of them gets married, the others are going to think they are ugly. I am looking for a tribe whose warriors can have three wives,” answered the wizard as he walked away.

And for many a year he traveled all over the Australian continent but never managed to find such a tribe.

“At least one of us could have been happy,” said one of the sisters when they were already old and weary from so much wandering.

“I was wrong, “answered the wizard. “But now it’s too late.”

And he turned the three sisters into blocks of stone.

Visitors to the Blue Mountains National Park near Sydney can see them – and understand that the happiness of one does not mean the sadness of others.

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There is one comment

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s