कार्यक्षमता : Efficiency

एक नवयुवक और कुछ बुजुर्ग लकड़हारे जंगल में पेड़ काट रहे थे. युवक बहुत मेहनती था. वह बिना रुके लगातार काम कर रहा था. बाकी लकड़हारे कुछ देर काम करने के बाद थोड़ी देर सुस्ताते और बात करते थे. यह देखकर युवक को लगता था कि वे समय की बर्बादी कर रहे हैं.

जैसे-जैसे दिन बीतता गया, युवक ने यह देखा कि बाकी लकड़हारे उसकी तुलना में अधिक पेड़ काट पा रहे थे जबकि वे बीच-बीच में काम रोक भी देते थे. यह देखकर युवक ने और अधिक तेजी से काम करना शुरु कर दिया, लेकिन वह अभी भी दूसरों की तुलना में कम ही लकड़ी काट पा रहा था.

अगले दिन उम्रवार लकड़हारों ने युवक को काम के बीच में अपने पास चाय पीने के लिए बुलाया. युवक ने उन्हें यह कहकर मना कर दिया कि इससे समय व्यर्थ होगा.

एक बूढ़े लकड़हारे ने लड़के से मुस्कुराते हुए कहा, “तुम लंबे समय से अपनी कुल्हाड़ी में धार किए बिना लकड़ी काटने की कोशिश कर रहे हो और तुम्हारी सारी मेहनत बेकार जा रही है. कुछ समय के बाद तुम्हारी सारी शक्ति चुक जाएगी और तुम्हें काम बंद करना पड़ेगा.”

युवक को यह अहसास हुआ कि आराम करने के दौरान बाकी लकड़हारे चाय पीने और गपशप करने का साथ-साथ अपनी कुल्हाड़ियों पर भी धार करते थे. वे वाकई अकलमंद थे. उनकी कुल्हाड़ियां लकड़ी तो बेहतर काट पा रही थीं.

बूढ़े लकड़हारे ने युवक को हिदायत देते हुए कहा, “हमें अपनी बुद्धि का प्रयोग करके अपने कौशल और क्षमता को बढ़ाते रहना चाहिए. तभी हमें अपनी पसंद के दूसरे कार्यों को करने के लिए समय मिल पाएगा.

पर्याप्त विश्राम के बिना कोई भी अपना काम कुशलतापूर्वक नहीं कर सकता. कुछ समय के लिए काम को रोककर आराम करने से शक्ति का संचार होता है और अन्य किसी दृष्टिकोण से अपने कार्य का आकलन करके रणनीति बनाने का अवसर मिलता है.

(~_~)

A young man and some old folks were chopping down trees in a jungle. The young man was very hard working. He always continued to work through his break. He was disappointed to see the older folks having to break a few times a day to drink and chat. He thought they were wasting their time.

Over the days that passed, the young man noticed that the older folks were chopping even more trees than he did even though they had breaks. He decided to work harder but the results were still the same – the older folks were more productive in their work.

One day, one of the old folks invited him for a drink during their break. The young man refused thinking it was a waste of time.

The old man smiled and told him, “You were wasting your effort chopping trees without re-sharpening your knife. It’s a matter of time before you give up ‘cause you’ll be so tired spending too much energy.”

Suddenly the young man realized that during the break times, the older folks while drinking and chatting, were also re-sharpening their knives at the same time! They were smart. They could chop faster than him.

The old man smiled and advised the young man, “What we need is efficiency by making use of our skill and ability intelligently. Only then can we have more time to do other things.”

How can one perform efficiently without sufficient rest? By taking a break, it is not to stop work but to rest and re-think our strategy to go about it from another angle, perhaps smarter. Think smart, work smart and rest smart.

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 7 comments

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s