पारस पत्थर : Touchstone

कहते हैं कि सिकंदरिया की महान लाइब्रेरी में जब भीषण आग लग गयी तब केवल एक ही किताब आग से बच पाई। वह कोई महत्वपूर्ण या मूल्यवान किताब नहीं थी। मामूली पढ़ना जानने वाले एक गरीब आदमी ने वह किताब चंद पैसों में खरीद ली।

किताब में कुछ खास रोचक नहीं था। लेकिन किताब के भीतर आदमी को एक पर्ची पर कुछ अजीब चीज़ लिखी मिली। उस पर्ची पर पारस पत्थर का रहस्य लिखा हुआ था।

पर्ची पर लिखा था कि पारस पत्थर एक छोटा सा कंकड़ था जो साधारण धातुओं को सोने में बदल सकता था। पर्ची के अनुसार वह कंकड़ उस जैसे दिखनेवाले हजारों दूसरे कंकडों के साथ एक सागरतट पर पड़ा हुआ था। कंकड़ की पहचान यह थी कि दूसरे कंकडों की तुलना में वह थोड़ा गरम प्रतीत होता जबकि साधारण कंकड़ ठंडे प्रतीत होते।

उस आदमी ने अपनी सारी वस्तुएं बेच दीं और पारस पत्थर ढूँढने के लिए ज़रूरी सामान लेकर समुद्र की ओर चल पड़ा।

वह जानता था कि यदि वह साधारण कंकडों को उठा-उठा कर देखता रहा तो वह एक ही कंकड़ को शायद कई बार उठा लेगा। इसमें तो बहुत सारा समय भी नष्ट हो जाता। इसीलिए वह कंकड़ को उठाकर उसकी ठंडक या गर्माहट देखकर उसे समुद्र में फेंक देता था।

दिन हफ्तों में बदले और हफ्ते महीनों में। वह कंकड़ उठा-उठा कर उन्हें समुद्र में फेंकता गया। एक दिन दोपहर में उसने एक कंकड़ उठाया – वह गरम था। लेकिन इससे पहले कि आदमी कुछ सोचता, आदत से मजबूर होकर उसने उसे समुद्र में फेंक दिया। समुद्र में उसे फेंकते ही उसे यह भान हुआ कि उसने कितनी बड़ी गलती कर दी है। इतने लंबे समय तक प्रतिदिन हजारों कंकडों को उठाकर समुद्र में फेंकते रहने की मजबूत आदत होने के कारण उसने उस कंकड़ को भी समुद्र में फेंक दिया जिसकी तलाश में उसने अपना सब कुछ छोड़ दिया था।

ऐसा ही कुछ हम लोग अपने सामने मौजूद अवसरों के साथ करते हैं। सामने खड़े अवसर को पहचानने में एक पल की चूक ही उसे हमसे बहुत दूर कर देती है।

~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ 

There is a story that when the great library of Alexandria was burned, one book was saved. But it was not a valuable book, and so a poor man, who could read a little, bought it for a few coppers. It was not very interesting, yet there was a most interesting thing in it. It was a thin strip of vellum on which was written the secret of the “touchstone”.

The touchstone was a small pebble that could turn any common metal into pure gold The writing explained that it was on the shores of the Black Sea lying among thousands and thousands of other pebbles which looked exactly like it. But the secret was this: the real stone would feel warm, while ordinary pebbles are cold. So the man sold his few belongings, bought some simple supplies, camped on the seashore, and began testing the pebbles.

This was his plan: he knew that if he picked up ordinary pebbles and threw them down again because they were cold, he might pick up the same pebbles hundreds of times. So when he felt one that was cold he threw it into the sea. He spent a whole day doing this, and they were none of them the touchstone. Then he spent a week, a month, a year, three years… but he did not find the touchstone. Yet he went on and on this way: pick up a pebble, it’s cold, throw it into the sea… and so on and so on. Just visualize the man doing it for years and years and years — pick up a pebble, it is cold, throw it into the sea… from morning to evening, for years and years.

But one morning he picked up a pebble and it was WARM — and he threw it into the sea. He had formed the habit of throwing them into the sea, you understand, and habit made him do it when at last he found the touchstone, poor fellow.

That’s how mind functions. Trust is a touchstone. Very rarely do you find a man in whom you can trust. Very rarely do you find a heart who is warm, loving, in whom you can trust. Ordinarily you find pebbles which look like the touchstone, almost alike, but all are cold. year in, year out, from the very childhood: you pick up a pebble, you feel it, it is cold, you throw it into the ocean.

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 7 comments

  1. ramakantsingh

    ऐसा ही कुछ हम लोग अपने सामने मौजूद अवसरों के साथ करते हैं। सामने खड़े अवसर को पहचानने में एक पल की चूक ही उसे हमसे बहुत दूर कर देती है।
    लाख टेक कि एक बात संग्रहणीय

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s