भय और साहस – Fear and Courage

एक दिन, अफ्रीका के मैदानों में रहने वाले एक शिशु गौर (जंगली भैंसा) ने अपने पिता के पूछा, “मुझे किस चीज से संभल कर रहना चाहिए”?

“तुम्हें सिर्फ शेरों से बचकर रहना चाहिए, मेरे बच्चे”, पिता ने कहा.

“जी हां, उनके बारे में मैंने भी सुना है. अगर मुझे कभी कोई शेर देखा तो वहां से झटपट भाग लूंगा”, शिशु गौर ने कहा.

“नहीं बच्चे, उन्हें देखकर भाग लेने में समझदारी नहीं है”, पिता गौर ने गंभीरता से कहा.

“ऐसा क्यों? वे तो बहुत भयानक होते हैं और मुझे पकड़कर मार भी सकते है!”

पिता गौर ने मुस्कुराते हुए अपने पुत्र को समझाया, “बेटे, यदि तुम उन्हें देखकर भाग जाओगे तो वे तुम्हें पीछा करके पकड़ लेंगे. वे तुम्हारी पीठ पर चढ़कर तुम्हारी गर्दन दबोच लेंगे. तुम्हारा बचना तब असंभव हो जाएगा.”

“तो ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए”? शिशु गौर ने पूछा.

“जब तुम किसी शेर को देखो तो अपनी जगह पर अडिग रहकर उसे यह जताओ कि तुम उससे भयभीत नहीं हो. यदि वह वापस नहीं जाए तो उसे अपने पैने सींग दिखाओ और अपने खुरों को भूमि पर पटको. यदि इससे भी काम न चले तो उसकी ओर धीरे-धीरे बढ़ने लगो. यह भी बेअसर हो जाए तो उसपर हमला करके किसी भी तरह से उसे चोट पहुंचाओ.”

“यह आप कैसी बातें कर रहे हैं?! मैं भला ऐसा कैसे कर सकता हूं? उन क्षणों में तो मैं डर से बेदम हो जाऊंगा. वह भी मुझपर हमला कर देगा”, शिशु गौर ने चिंतित होकर कहा.

“घबराओ नहीं, बेटे. तुम्हें अपने चारों ओर क्या दिखाई दे रहा है”?

शिशु गौर ने अपने चारों ओर देखा. उनके झुंड में लगभग 200 भीमकाय और खूंखार गौर थे जिनके कंधे मजबूत और सींग नुकीले थे.

“बेटे, जब कभी तुम्हें भय लगे तो याद करो कि हम सब तुम्हारे समीप ही हैं. यदि तुम डरकर भाग जाओगे तो हम तुम्हें बचा नहीं पाएंगे, लेकिन यदि तुम शेरों की ओर बढ़ोगे तो हम तुम्हारी मदद के लिए ठीक पीछे ही रहेंगे.”

शिशु गौर ने गहरी सांस ली और सहमति में सर हिलाया. उसने कहा, “आपने सही कहा, मैं समझ गया हूं.”

* * * * * * * * *

हमारे चारों ओर भी सिंह घात लगाए बैठे हैं.

हमारे जीवन के कुछ पक्ष हमें भयभीत करते हैं और वे यह चाहते हैं कि हम परिस्तिथियों से पलायन कर जाएं. यदि हम उनसे हार बैठे तो वे हमारा पीछा करके हमें परास्त कर देंगे. हमारे विचार उन बातों के आधीन हो जाएंगे जिनसे हम डरते हैं और हम पुरूषार्थ खो बैठेंगे. भय हमें हमारे सामर्थ्य तक नहीं पहुंचने देगा.

* * * * * * * * * * * * * * * * * *

One day, on the plains of Africa, a young buffalo named Walter approached his dad and asked him if there was anything that he should be afraid of.

“Only lions my son,” his dad responded.

“Oh yes, I’ve heard about lions. If I ever see one, I’ll turn and run as fast as I can,” said Walter.

“No, that’s the worst thing you can do,” said the large male.

“Why? They are scary and will try to kill me.”

The dad smiled and explained, “Walter, if you run away, the lions will chase you and catch you. And when they do, they will jump on your unprotected back and bring you down.”

“So what should I do?” asked Walter.

“If you ever see a lion, stand your ground to show him that you’re not afraid. If he doesn’t move away, show him your sharp horns and stomp the ground with your hooves. If that doesn’t work, move slowly towards him. If that doesn’t work, charge him and hit him with everything you’ve got!”

“That’s crazy, I’ll be too scared to do that. What if he attacks me back?” said the startled young buffalo.

“Look around, Walter. What do you see?”

Walter looked around at the rest of his herd. There were about 200 massive beasts all armed with sharp horns and huge shoulders.

“If ever you’re afraid, know that we are here. If you panic and run from your fears, we can’t save you, but if you charge towards them, we’ll be right behind you.”

The young buffalo breathed deeply and nodded.

“Thanks dad, I think I understand.”

We all have lions in our worlds.

There are aspects of life that scare us and make us want to run, but if we do, they will chase us down and take over our lives. Our thoughts will become dominated by the things that we are afraid of and our actions will become timid and cautious, not allowing us to reach our full potential.

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 13 comments

  1. सलिल वर्मा

    लोकतंत्र की गरिमा इस कथा में निहित है!! सवा करोड़ गौरों के इस देश को सवा करोड़ भेड़ों की भेड़चाल में अटका देने और उससे निकलने की प्रेरणा देती प्रेरक कथा!!

    Like

  2. mahendra gupta

    बहुत ही सार्थक प्रस्तुति.आज समाज के अंदर ऐसे भेड़ियों ने सामाजिक व्यस्था को तहस नहस कर दिया है, जिसकी लाठी उसकी भेंस वाली कहावत चरितार्थ हो रही है.प्रशासन भी नाकारा हो गया लगताहै,अतएव पिता गौर कि सलाह बिलकुल उपयुक्त है.बहुत ही प्रेरक कथा के द्वारा सन्देश देने के लिए आभार.

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s