फादर कोल्बे : Sacrifice of Father Kolbe

संत मैक्सिमिलियन कोल्बे (1894-1941) पोलैंड के फ्रांसिस्कन मत के पादरी थे. नाजी हुकूमत के दौरान उन्हें जर्मनी की खुफिया पुलिस ‘गेस्टापो’ ने बंदी बना लिया. उन्हें पोलैंड के औश्वित्ज़ के यातना शिविर में भेज दिया गया.

एक दिन यातना शिविर में दैनिक हाजिरी के दौरान एक बंदी कम पाया गया. अधिकारियों ने यह निष्कर्ष निकाला कि वह भाग गया लेकिन बाद में उसका शव कैम्प के गुसलखाने में मिला. वह शायद भागने के प्रयास में पानी की टंकी में डूब गया था. अधिकारियों ने यह तय किया कि मृतक बंदी के भागने का प्रयास करने के कारण उसी बैरक के दस बंदियों को मृत्युदंड दे दिया जाए ताकि कोई दूसरा बंदी भागने का प्रयास करने का साहस न करे. जिन दस बंदियों का चयन किया गया उनमें फ्रान्सिजेक गज़ोनिव्ज़ेक भी था. जब उसने अपनी भावी मृत्यु के बारे में सुना तो वह चीत्कार कर उठा – “हाय मेरी बेटियाँ, मेरी बीवी, मेरे बच्चे! अब मैं उन्हें कभी नहीं देख पाऊँगा!” – वहां मौजूद सभी बंदियों की आँखों में यह दृश्य देखकर आंसू आ गए.

उसका दुःख भरा विलाप सुनकर फादर कोल्बे आगे आये और उसे ले जानेवालों से बोले – “मैं एक कैथोलिक पादरी हूँ. मैं उसकी जगह लेने के लिए तैयार हूँ. मैं बूढ़ा हूँ और मेरा कोई परिवार भी नहीं है”.

फ्रान्सिजेक के स्थान पर कोल्बे की मरने की फरियाद स्वीकार कर ली गई. फादर कोल्बे के साथ बाकी नौ बंदियों को एक कालकोठरी में बंद करके भूख और प्यास से मरने के लिए छोड़ दिया गया. फादर कोल्बे ने सभी बंदी साथियों से उस घड़ी में प्रार्थना करने और ईश्वर में अपनी आस्था दृढ़ करने के लिए कहा. वे बंदियों के लिए माला जपते और भजन गाते थे. भूख और प्यास से एक के बाद एक बंदी मरता गया. फादर कोल्बे अंत तक जीवित रहे और सबके लिए प्रार्थना करते रहे.

कुछ दिनों बाद जब कालकोठरी को खोलकर देखा गया तो फादर कोल्बे जीवित मिले. 14 अगस्त, 1941 के दिन उन्हें बाएँ हाथ में कार्बोलिक एसिड का इंजेक्शन देकर मार दिया गया. उन्होंने प्रार्थना करते हुए अपना हाथ इंजेक्शन लेने के लिए बढ़ाया था. जिस कालकोठरी में फादर कोल्बे की मृत्यु हुई अब वह औश्वित्ज़ जानेवाले यात्रियों के लिए किसी पावन तीर्थ की भांति है.

फादर कोल्बे द्वारा जीवनदान दिए जाने के 53 वर्ष बाद फ्रान्सिजेक गज़ोनिव्ज़ेक की मृत्यु 95 वर्ष की उम्र में 1995 में हुई. जब पोप जॉन पॉल द्वितीय ने 1982 में फादर कोल्बे को संत की उपाधि दी तब वह उस समय वहां अपने परिवार के साथ उपस्थित था.

* * * * * * * * * * * * * * *

Maximilian Kolbe was a Polish Conventual Franciscan friar. Born January 8, 1894 as Rajmund Kolbe, he was canonized as a saint by the Catholic Church in 1982 for taking a stranger’s place in the Auschwitz concentration camp.

To the Catholic readers, this may not be a surprise, as he is the patron saint of drug addicts, political prisoners, families, journalists, prisoners, and the pro-life movement. The late Pope John Paul II even declared him “The Patron Saint of Our Difficult Century.”

During World War II, Kolbe provided shelter to refugees from Greater Poland, including more than 2,000 Jews that he hid from Nazi persecution in his friary. He was also an anti-Nazi radio host during this time. On February 17, 1941, however, he was caught and arrested by the Gestapo.

On May 25, he was moved to Auschwitz. In July of that year, a man from Kolbe’s barracks vanished, in what was believed to be an escape attempt. In order to discourage further attempts, the deputy camp commander picked ten men from the same barracks to be starved to death in Block 13, which was notorious for torture.

One of the chosen men, named Franciszek Gajowniczek, was hysterical over the idea of never seeing his family again. Kolbe took his place. During the starvation time, Kolbe led the men in song and prayer. After an incredible three weeks, Kolbe and three others were still alive.

They were all killed by an injection of carbolic acid. The worst part was that the man who was thought to have escaped was found drowned in the latrine. Gajowniczek survived to be liberated from Auschwitz, though, which means Kolbe’s sacrifice was still worthwhile.

Though his sons had died, Gajowniczek’s wife had survived. He lived with her until her death in 1977. Gajowniczek himself died in 1995.

(A motivational / inspiring anecdote about the sacrifice of Saint Maximilian Kolbe – in Hindi)

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 7 comments

  1. Himanshu Pandey

    पर-कल्याण के लिए आत्मत्याग संत-लक्षण है! पोप भले ही प्रकियाओं से गुजरने के बाद संत की उपाधि दें, परन्तु फादर कोल्बे का चरित्र और आचरण ही उन्हें संत सिद्ध करने के लिए पर्याप्त था।

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s