दर्पण : The Mirror

windowएक बहुत धनी युवक रब्बाई के पास यह पूछने के लिए गया कि उसे अपने जीवन में क्या करना चाहिए. रब्बाई उसे कमरे की खिड़की तक ले गए और उससे पूछा:

“तुम्हें कांच के परे क्या दिख रहा है?”

“सड़क पर लोग आ-जा रहे हैं और एक बेचारा अँधा व्यक्ति भीख मांग रहा है”.

इसके बाद रब्बाई ने उसे एक बड़ा दर्पण दिखाया और पूछा:

“अब इस दर्पण में देखकर बताओ कि तुम क्या देखते हो”.

“इसमें मैं खुद को देख रहा हूँ”.

“ठीक है. दर्पण में तुम दूसरों को नहीं देख सकते. तुम जानते हो कि खिड़की में लगा कांच और यह दर्पण एक ही मूल पदार्थ से बने हैं.”

“तुम स्वयं की तुलना कांच के इन दोनों रूपों से करके देखो. जब यह साधारण है तो तुम्हें सभी दिखते हैं और उन्हें देखकर तुम्हारे भीतर करुणा जागती है. और जब इस कांच पर चांदी का लेप हो जाता है तो तुम केवल स्वयं को देखने लगते हो.”

“तुम्हारा जीवन भी तभी महत्वपूर्ण बनेगा जब तुम अपने आँखों पर लगी चांदी की परत को उतार दो. ऐसा करने के बाद ही तुम अपने लोगों को देख पाओगे और उनसे प्रेम कर सकोगे”.

यह यहूदी नीति-कथा पाउलो कोएलो के ब्लॉग से ली गयी है.

(~_~)

A very rich young man went to see a Rabbi in order to ask his advice about what he should do with his life. The Rabbi led him over to the window and asked him:

‘What can you see through the glass?’

‘I can see men coming and going and a blind man begging for alms in the street.’

Then the Rabbi showed him a large mirror and said to him:

‘Look in this mirror and tell me what you see.’

‘I can see myself.’

‘And you can’t see the others. Notice that the window and the mirror are both made of the same basic material, glass.

‘You should compare yourself to these two kinds of glass. Poor, you saw other people and felt compassion for them.
‘Rich – covered in silver – you see yourself.

‘You will only be worth anything when you have the courage to tear away the coating of silver covering your eyes in order to be able to see again and love your fellow man.’

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 20 comments

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s