Self-control – आत्म-नियंत्रण

thankfulness for peace

एक दिन एक बड़े भूकंप ने ज़ेन मंदिर को हिलाकर रख दिया. मंदिर का कुछ भाग ध्वस्त भी हो गया. सभी संन्यासी अत्यंत भयभीत थे.

जब भूकंप थम गया तो गुरु ने सभी शिष्यों से कहा, “इस भूकंप के आने से तुम सबको यह देखने का अवसर मिला है कि ऐसी परिस्थितियों में ज़ेन के मार्ग पर चलने वाला व्यक्ति कैसा व्यवहार करता है. तुम सभी ने यह देखा कि भूकंप आने पर मैं भयभीत नहीं हुआ. मुझे अपने चारों ओर घट रही चीज़ों का पूरा बोध था. मैं तुम सबको रसोई तक ले आया क्योंकि यह मंदिर का सबसे मजबूत भाग है. मेरा निर्णय सही था क्योंकि हम सभी बच गए और किसी को भी चोट नहीं आई. लेकिन मैं तुम सभी को यह भी बता देना चाहता हूँ कि अपने ऊपर पूर्ण नियंत्रण और आत्म-संयम होने के बाद भी मैं कुछ तनाव में था – और यह तुम इस बात से समझ सकते हो कि मैंने यहाँ एक गिलास में रखा पानी गटागट पी लिया जबकि सामान्य स्थितियों में मैं ऐसा कदापि नहीं करता!”

एक संन्यासी यह सुनकर मुस्कुरा दिया, पर उसने कुछ कहा नहीं.

“तुम हंस क्यों रहे हो?”, गुरु ने उससे पूछा.

“वह पानी नहीं था”, संन्यासी ने कहा, “उस गिलास में सोया सॉस था”.

* * * * * * * * * *

One day there was an earthquake that shook the entire Zen temple. Parts of it even collapsed. Many of the monks were terrified. When the earthquake stopped the teacher said, “Now you have had the opportunity to see how a Zen man behaves in a crisis situation. You may have noticed that I did not panic. I was quite aware of what was happening and what to do. I led you all to the kitchen, the strongest part of the temple. It was a good decision, because you see we have all survived without any injuries. However, despite my self-control and composure, I did feel a little bit tense – which you may have deduced from the fact that I drank a large glass of water, something I never do under ordinary circumstances.”

One of the monks smiled, but didn’t say anything.

“What are you laughing at?” asked the teacher.

“That wasn’t water,” the monk replied, “it was a large glass of soy sauce.”

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 10 comments

  1. sugya

    स्व-नियंत्रण जरूरी है। जो विपदा में भी सोचने-समझने का मार्ग खुला रखता है।
    गुरू का जरा सा तनाव, पानी और सोया सॉस में ‘भेद’ करने में असमर्थ रहा!!
    हर परिस्थिति में आत्मनियंत्रण, आत्म संयम कठिन है पर आवश्यक है।

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s