प्यार और तक़रार

pesach rituals


रब्बाई इयाकोव की पत्नी उससे बहस करने के लिए सदा मौके की फ़िराक़ में रहती थी.  लेकिन इयाकोव उसके उकसाव पर कभी ध्यान नहीं देता था और हमेशा शांत रहता.

फिर एक रात भोजन के समय ऐसा हुआ कि मेहमानों के सामने अपनी पत्नी से गरमागरम तक़रार करके इयाकोव ने सभी को हैरत में डाल दिया.

“क्या हुआ रब्बाई?” – किसी ने पूछा – “तुमने बहस-मुबाहिसे में नहीं पड़ने की आदत छोड़ दी क्या?”

“मुझे यह लगने लगा था कि मेरी पत्नी को ऐसे मौकों पर मेरा चुप रहना ही सबसे ज्यादा अखरता है. भोजन पर उससे तक़रार करके मैंने उसकी भावनाओं को बदल दिया. इसके मूल में उसके प्रति मेरा प्रेम ही है. अब वह यह समझ गई है कि मैं उसकी बातें सुनता हूं.”

(A motivational / inspirational Jewish story about arguing and loving – in Hindi)

Advertisements

There are 12 comments

  1. aradhana

    बात सही है, जब हम किसी की बात का जवाब देते हैं, तो इसका मतलब हम उसे सुन रहे हैं. भले ही जवाब बहस के लिए क्यों न हो. इसीलिए कहते हैं कि दुश्मन को चित करने का सबसे अच्छा तरीका है कि चुप रहकर मुस्कुराते रहो , अगला जल-भुनकर राख हो जाएगा… पर ऐसा हम दुश्मनों के साथ करते हैं, अपनों की तो बात सुनी जाती है, उनसे बहस की जाती है, तकरार की जाती है.

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s