पिता और पुत्र : Father and Son

train window


एक पिता अपने 25 वर्षीय पुत्र के साथ रेलगाड़ी से कहीं जा रहा था.

लड़का खिड़की पर बैठकर बाहर की चीज़ों को बड़े कौतूहल से देख रहा था. बीच-बीच में वह अपने पिता की और देखकर चिल्लाता – “पापा! देखो पेड़ पीछे भागे जा रहे हैं!”.

पिता अपने बेटे को मुस्कुराते हुए बहुत प्यार से देखता.

बेटे ने एक बार फिर से चिल्लाकर कहा – “पापा! देखो सूरज और बादल भी हमारे साथ चल रहे हैं!”.

सामनेवाली सीट पर बैठे हुए यात्री यह सब कुछ देर से देख रहे थे. उनमें से एक से जब रहा न गया तो वह पिता से बोला – “आपके लड़के को शायद कुछ समस्या है. आपने उसे कभी किसी डॉक्टर को नहीं दिखाया?”

पिता ने उत्तर दिया – “हम अभी अस्पताल से छूटकर ही आ रहे हैं. यह दो साल की उम्र में अपनी आँखें खो बैठा था और कल ही इसने देखना शुरू किया है”.

(A motivational / inspirational anecdote of a father and his son – in Hindi)

(~_~)

A 25 year old boy seeing out from the train’s window shouted, “Dad, look the trees are going behind!”

Dad smiled and a young couple sitting nearby, looked at the 25 year old’s childish behaviour with pity, suddenly he again exclaimed, “Dad, look the clouds are running with us!”

The couple couldn’t resist and said to the old man, “Why don’t you take your son to a good doctor?”

The old man smiled and said, “I did and we are just coming from the hospital, my son was blind from birth, he just got his eyes today.”

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 14 comments

  1. ojasi

    U wont believe me – – – agar aaj bhi mein kisi train mein yaatra karu I wud be stunned to see that trees r gng back n d moon is walking wd me… mujhey aaj bhi ye sab utna hi nayaa and ajeeb aur khubsurat lagta hai jitna shayad pehli baar laga hoga… har cheez ko ek bachhe ki nigaah se dekhne aur uska aanand lene mein ek alag hi maza hai… meri mom hamesha kehti hain — bacche ki tarah banane mein ek sukh hai 🙂

    Like

  2. Ajinkya Londhe

    क्या आप के पास ये संवाद है–

    “पिता और छात्रावास में रहता हुआ बच्चा जो कक्षा में प्रथम आया है”

    ईनके बीच संवाद। अगर है तो कृपया बताईए।

    और कहानी बहूत अच्छी है।

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s