हमारी कीमत : Our Value

100 dollarsएक प्रसिद्ध वक्ता ने सेमीनार में अपनी जेब से १०० डालर का नोट निकला और कमरे में उपस्थित २०० लोगों से पूछा – “कौन यह १०० डालर का नोट लेना चाहता है?”

सभी मौजूद लोगों ने अपने हाथ उठा दिए।

वक्ता ने कहा – “यह नोट मैं आपको ज़रूर दूँगा लेकिन उससे पहले मैं इसे…” – यह कहते हुए उसने उस नोट को अपने हाथ में कसकर भींचकर दिया।

उसने फ़िर पूछा – “अभी भी किसी को नोट चाहिए?”

अभी भी सारे हाथ ऊपर उठ गए।

“अच्छा!” – वक्ता ने कहा – “और अगर मैं इस नोट के साथ यह करूँ” – कहते हुए उसने नोट को ज़मीन पर पटककर उसे अपने जूते से मसल दिया। (हम भारतवासी तो ऐसा कदापि न करें)

उसने फ़िर वह गन्दा तुड़ा-मुड़ा सा नोट उठाया और फ़िर से कहा – “क्या अब भी कोई इसे लेना चाहेगा?”

अभी भी सारे लोग उसे लेने के लिए तैयार थे।

“दोस्तों” – वक्ता ने कहा – “आप सभी ने आज एक बेशकीमती सबक सीखा है। इस नोट के साथ मैंने इतना कुछ किया पर सभी इसे लेने के लिए तैयार हैं क्योंकि इसकी कीमत कम नहीं हुई। यह अभी भी १०० डालर का नोट है”।

“हमारी ज़िंदगी में हमें कई बार गिराया, कुचला और अपमानित किया जाता है पर इससे हमारी कीमत – हमारा महत्त्व कम नहीं हो जाता। इसे हमेशा याद रखें”।

(~_~)

A well-known speaker started off his seminar holding up a $100 bill. In the room of 200, he asked, “Who would like this $100 bill?” Hands started going up. He said, “I am going to give this $100 to one of you but first, let me do this.”

He proceeded to crumple up the $20 dollar bill. He then asked, “Who still wants it…?” Still the hands were up in the air. “Well,” he replied, “What if I do this?” And he dropped it on the ground and started to grind it into the floor with his shoe. He picked it up, now crumpled and dirty. “Now, who still wants it?” Still the hands went into the air.

“My friends, we have all learned a very valuable lesson. No matter what I did to the money, you still wanted it because it did not decrease in value. It was still worth $100. Many times in our lives, we are dropped, crumpled, and ground into the dirt by the decisions we make and the circumstances that come our way. We may feel as though we are worthless. But no matter what has happened or what will happen, you will never lose your value.

Dirty or clean, crumpled or finely creased, you are still priceless to those who DO LOVE you. The worth of our lives comes not in what we do or who we know, but by WHO WE ARE.

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 5 comments

  1. hempandey

    “हमारी ज़िंदगी में हमें कई बार गिराया, कुचला और अपमानित किया जाता है पर इससे हमारी कीमत – हमारा महत्त्व कम नहीं हो जाता। इसे हमेशा याद रखें”। -एक सुंदर पोस्ट के लिए साधुवाद. ज्ञान दत्त जी के पोस्ट के माध्यम से आपका लिंक मिला. पुरानी पोस्ट भी पढीं.अच्छा प्रयास है.

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s