एक टुकड़ा सत्य : A Piece of Truth

lonely reader

एक दिन शैतान और उसका एक मित्र साथ बैठकर बातचीत कर रहे थे। उनहोंने एक आदमी को सामने से आते हुए देखा। उस आदमी ने सड़क पर झुककर कुछ उठाकर अपने पास रख लिया।

“उसने सड़क से क्या उठाया?” – शैतान के मित्र ने शैतान से पूछा।

“एक टुकड़ा सत्य” – शैतान ने जवाब दिया।

शैतान का मित्र चिंतित हो गया। सत्य का एक टुकड़ा तो उस आदमी की आत्मा को बचा लेगा! इसका अर्थ यह है की नर्क में एक आदमी कम हो जाएगा!

लेकिन शैतान चुपचाप बैठा सब कुछ देखता रहा।

“तुम बिल्कुल परेशान नहीं लगते!?” – मित्र ने कहा – “उसे सत्य का एक टुकड़ा मिल गया है!”

“न! इसमें चिंता की कोई बात नहीं है।” – शैतान बोला।

मित्र ने पूछा – “क्या तुम्हें पता है कि वह आदमी उस सत्य के टुकड़े का क्या करेगा!?”

शैतान ने उत्तर दिया – “हमेशा की तरह वह उससे एक नए धर्म की स्थापना करेगा और इस प्रकार वह लोगों को पूर्ण सत्य से थोड़ा और दूर कर देगा।”

(~_~)

The devil was talking to his friends when they noticed a man walking along a road.

They watched him pass and saw that he bent down to pick something up.

“What did he find?” asked one of the friends. “A piece of Truth,” answered the devil.

The friends were very concerned. After all, a piece of Truth might save that man’s soul – one less in Hell. But the devil remained unmoved, gazing at the view.

“Aren’t you worried?” said one of his companions. “He found a piece of Truth!”

“I’m not worried,” answered the devil. “Do you know what he’ll do with the piece?” The devil replied, “as usual, he’ll create a new religion. And he’ll succeed in distancing even more people from the whole Truth.”

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 3 comments

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s