The Taoist Farmer – एक ताओ कहानी

किसी गाँव में एक किसान रहता था। उसके पास एक घोड़ा था। एक दिन वह घोड़ा अपनी रस्सी तुडाकर भाग गया।

यह ख़बर सुनकर किसान के पड़ोसी उसके घर आए। इस घटना पर उसके सभी पड़ोसियों ने अफ़सोस ज़ाहिर किया। सभी बोले – “यह बहुत बुरा हुआ”।

किसान ने जवाब दिया – “हाँ …. शायद”।

अगले ही दिन किसान का घोड़ा वापस आ गया और अपने साथ तीन जंगली घोडों को भी ले आया।

किसान के पड़ोसी फ़िर उसके घर आए और सभी ने बड़ी खुशी ज़ाहिर की। उनकी बातें सुनकर किसान ने कहा – “हाँ …. शायद”।

दूसरे दिन किसान का इकलौता बेटा एक जंगली घोडे की सवारी करने के प्रयास में घोडे से गिर गया और अपनी टांग तुडा बैठा।

किसान के पड़ोसी उसके घर सहानुभूति प्रकट करने के लिए आए। किसान ने उनकी बातों के जवाब में कहा – “हाँ …. शायद”।

अगली सुबह सेना के अधिकारी गाँव में आए और गाँव के सभी जवान लड़कों को जबरदस्ती सेना में भरती करने के लिए ले गए। किसान के बेटे का पैर टूटा होने की वजह से वह जाने से बच गया।

पड़ोसियों ने किसान को इस बात के लिए बधाई दी। किसान बस इतना ही कहा – “हाँ …. शायद”।

(A Tao story in Hindi)

This farmer had only one horse, and one day the horse ran away. The neighbors came to condole over his terrible loss. The farmer said, “What makes you think it is so terrible?”

A month later, the horse came home–this time bringing with her two beautiful wild horses. The neighbors became excited at the farmer’s good fortune. Such lovely strong horses! The farmer said, “What makes you think this is good fortune?”

The farmer’s son was thrown from one of the wild horses and broke his leg. All the neighbors were very distressed. Such bad luck! The farmer said, “What makes you think it is bad?”

A war came, and every able-bodied man was conscripted and sent into battle. Only the farmer’s son, because he had a broken leg, remained. The neighbors congratulated the farmer. “What makes you think this is good?” said the farmer. (image credit)

Advertisements

About Nishant Mishra

Nishant studied art history and literature at the university during 1990s. He works as a translator in New Delhi, India and likes to read about arts, photography, films, life-lessons and Zen.

There are 7 comments

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s