चाय का प्याला

मेइज़ी युग (1868-1912) के नान-इन नामक एक ज़ेन गुरु के पास किसी विश्वविद्यालय का एक प्रोफेसर ज़ेन के विषय में ज्ञान प्राप्त करने के लिए आया।

नान-इन ने उसके लिए चाय बनाई। उसने प्रोफेसर के कप में चाय भरना प्रारम्भ किया और भरता गया। चाय कप में लबालब भरकर कप के बहार गिरने लगी।

प्रोफेसर पहले तो यह सब विस्मित होकर देखता गया लेकिन फ़िर उससे रहा न गया और वह बोल उठा। ”कप पूरा भर चुका है। अब इसमें और चाय नहीं आयेगी”।

“इस कप की भांति”, – नान-इन ने कहा – ”तुम भी अपने विचारों और मतों से पूरी तरह भरे हुए हो। मैं तुम्हें ज़ेन के बारे में कैसे बता सकता हूँ जब तक तुम अपने कप को खाली नहीं कर दो”।

Photo by Suhyeon Choi on Unsplash

Advertisements

There are 3 comments

  1. Isha Narayan Mishra

    मनुष्य का दिमाग किसी भौतिक पात्र से भिन्न होता है उसे खाली करने के लिए तब और ध्यान की आवश्यकता होती है एवं तार्किक ज्ञान को साधना बनता है जिसके आधार पर अनावश्यक वस्तुओं को एवं विचारों को हम जबरदस्ती निकाल तो नहीं सकते लेकिन उन्हें अपने ज्ञान बल से समझ कर उन के पार जा सकते हैं सबको समझ कर उनके पार जाना और उनको निरर्थक और निष्क्रिय दशा में छोड़ देने की दशा को ही दिमाग को खाली करना कहते हैं यह काफी मुश्किल है अभ्यास से संभव है मैं झूम के इन विचारों का समर्थन करता हूं एवं प्रशंसा भी करता हूं. atisundar

    पसंद करें

neeta को एक उत्तर दें Cancel

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.