मृत्यु से माया तक

एक युवा दंपत्ति अपने दो वर्षीय पुत्र के साथ रेगिस्तान में भटक गए और उनका भोजन समाप्त हो गया. उनका शिशु काल कवलित हो गया. अपना जीवन बचाने की चेष्टा में पति-पत्नी ने अपने मृत शिशु का मांस खाना ही ठीक समझा. उन्होंने यह हिसाब लगाया कि वे उसके छोटे-छोटे अंश खायेंगे और बचे हुए […]

How To Treat Anger – क्रोधोपचार

fly-free-by-alice-popkorn.jpg

ब्लौगर बंधु अनुराग शर्मा जी ने हाल ही में बहुत मनोयोग से क्रोध के ऊपर कुछ पोस्ट लिखीं हैं जिन्हें आप उनके ब्लॉग पर पढ़ सकते हैं. उनकी एक पोस्ट पर मैंने कमेन्ट करके यह इच्छा की थी कि वे क्रोध के उपचार पर भी कुछ लिखें. उन्होंने मुझे इस विषय पर लिखने के लिए […]

तीन प्रश्न

(आज मैं आपको लेव तॉल्स्तॉय की एक लघुकथा सुनाता हूँ. यह कहानी उस राजा की है जो अपने तीन प्रश्नों के उत्तर खोज रहा था.) तो, एक बार एक राजा के मन में आया कि यदि वह इन तीन प्रश्नों के उत्तर खोज लेगा तो उसे कुछ और जानने की आवश्यकता नहीं रह जायेगी. पहला […]

Stopping, Calming, Resting, Healing – जागरूकता

एक ज़ेन कहानी में यह वर्णित है कि एक व्यक्ति अनियंत्रित घोड़े पर बैठा कहीं भगा जा रहा है. सड़क पर उसे देखने वाला एक आदमी उससे चिल्लाकर पूछता है, “तुम कहाँ जा रहे हो?!” और घुड़सवार उससे चिल्लाकर कहता है, “मुझे नहीं मालूम! तुम घोड़े से पूछो!” मुझे लगता है कि यह हमारी ही दशा […]