Posts Tagged 'स्मृति'

समर्पण

समर्पण


सुबह के साढ़े आठ बजे थे. अस्पताल में बहुत से मरीज़ थे. ऐसे में एक बुजुर्गवार अपने अंगूठे में लगे…