सत्य का धरातल : The Land of Truth

एक बार किसी आदमी को यह लगने लगा कि सामान्य जीवन में परिपूर्णता नहीं है और उसे सत्य की प्राप्ति करनी चाहिए. उसने ज्ञानी गुरु की खोज करना शुरू कर दिया. उसने बहुत से ग्रन्थ पढ़े, कई मठों में प्रवेश लिया, एक गुरु से दूसरे गुरु तक वह ज्ञान के शब्द सुनने के लिए भटकता […]

संयम और संगीत ही साधना है

philosopher2

सुबह जा चुकी है. धूप गर्म हो रही है और मन छाया में चलने को है. एक वृद्ध अध्यापक आये हें. वर्षों से साधना में लगे हैं. तन सूख कर हड्डी हो गया है. आंखें धूमिल हो गयी हैं और गड्ढों में खो गयी हैं. लगता है कि अपनों ने बहुत सताया है और उस […]

प्रसन्नता या शांति?

soul-rose.jpg

एक दिन बातों ही बातों में एक अन्तरंग मित्र यह पूछ बैठे, “तुम बहुत अच्छी बातें शेयर करते हो और तुमसे बातें करके अच्छा लगता है. लेकिन तुम हमेशा शांति की बात क्यों करते हो? प्रसन्नता, आनंद, और उत्सव की बात क्यों नहीं करते? वही सब तो हमें चाहिए? लोग चाहते हैं कि उनकी तकलीफें […]

Walking on Water – पानी पर चलना

तीन संन्यासियों ने एक साथ बैठकर ध्यान करने का निश्चय किया. वे एक छोटे तालाब के पास बैठ गए और अपना आसन जमाने के बाद ध्यान करने लगे. अचानक ही उनमें से एक उठा और बोला – “मैं अपनी चटाई लाना भूल गया हूँ!” – फिर वह चमत्कारिक रूप से तालाब में उतरा और पानी […]