Category Archives: Zen Stories

ऐशुन

बीस बौद्ध भिक्षु और ऐशुन नामक एक भिक्षुणी किसी ज़ेन गुरु के अधीन ध्यान साधना करते थे.

सादी वेशभूषा और सर घुटा होने के बाद भी ऐशुन बहुत सुन्दर लगती थी. अनेक भिक्षु भीतर-ही-भीतर उससे प्रेम करने लगे. उनमें से एक ने ऐशुन को प्रेमपत्र लिखा और एकांत में मिलने का निवेदन किया.

ऐशुन ने पत्र का उत्तर नहीं दिया. अगले दिन ज़ेन गुरु ने भिक्षु समूह को प्रवचन दिया. प्रवचन की समाप्ति पर ऐशुन उठी और प्रेमपत्र देनेवाले भिक्षु को संबोधित करते हुए बोली, “यदि तुम सच ही मुझसे प्रेम करते हो तो आओ और मुझे आलिंगनबद्ध कर लो.”

*  *  *  *  *  *  *  *  *  *  *  *

जब ऐशुन साठ वर्ष की हो गयी तो उसने देहत्याग करने का निश्चय कर लिया. उसने कुछ भिक्षुओं से कहा कि वे मठ के प्रांगण में लकड़ियों का ढ़ेर जमा दें.

ऐशुन के चिता पर बैठने के बाद उसमें अग्नि प्रज्वलित कर दी गयी.

“हे भिक्षुणी!”, एक भिक्षु ने चिल्लाकर पूछा, “क्या तुम्हें आंच लग रही है?”

ऐशुन ने कहा, “तुम जैसे मूर्ख ही ऐसी बातों की चिंता करते हैं”.

चिता धधकने के साथ ही ऐशुन ने प्राण छोड़ दिए.

About these ads

10 Comments

Filed under Zen Stories

दृष्टि की व्याधियां : Maladies of Sight

बोकुजु नामक एक साधू किसी गाँव की गली से होकर गुज़र रहा था. अचानक कोई उसके पास आया और उसने बोकुजु पर छड़ी से प्रहार किया. बोकुजु जमीन पर गिर गया, उस आदमी की छड़ी भी उसके हाथ से छूट गयी और वह भाग लिया. बोकुजु संभला, और गिरी हुई छड़ी उठाकर वह उस आदमी के पीछे यह कहते हुए भागा, “रुको, अपनी छड़ी तो लेते जाओ!”

बोकुजु उस आदमी तक पहुँच गया और उसे छड़ी सौंप दी. इस बीच यह घटनाक्रम देखकर वहां भीड़ लग गयी और किसी ने बोकुजु से पूछा, “इस आदमी ने तुम्हें इतनी जोर से मारा लेकिन तुमने उसे कुछ नहीं कहा?”

बोकुजु ने कहा, “हाँ, लेकिन यह एक तथ्य ही है. उसने मुझे मारा, वह बात वहीं समाप्त हो गयी. उस घटना में वह मारनेवाला था और मुझे मारा गया, बस. यह ऐसा ही है जैसे मैं किसी पेड़ के नीचे से निकलूँ या किसी पेड़ के नीचे बैठा होऊँ और एक शाखा मुझपर गिर जाए! तब मैं क्या करूंगा? मैं कर ही क्या सकता हूँ?”

भीड़ ने कहा, “पेड़ की शाखा तो निर्जीव शाखा है लेकिन यह तो एक आदमी है! हम किसी शाखा से कुछ नहीं कह सकते, हम उसे दंड नहीं दे सकते. हम पेड़ को भला-बुरा नहीं कह सकते क्योंकि वह एक पेड़ ही है, वह सोच-विचार नहीं सकता”.

बोकुजु ने कहा, “मेरे लिए यह आदमी पेड़ की शाखा की भांति ही है. यदि मैं किसी पेड़ से कुछ नहीं कह सकता तो इस आदमी से क्यों कहूं? जो हो गया, वो हो गया. मैं उसकी व्याख्या नहीं करना चाहता. और वह तो हो ही चुका है, वह बीत चुका है. अब उसके बारे में सोचकर चिंता क्या करना? वह हो गया, बात ख़तम”.

बोकुजु का मन एक संत व्यक्ति का मन है. वह चुनाव नहीं करता, सवाल नहीं उठाता. वह यह नहीं कहता कि ‘ऐसा नहीं, वैसा होना चाहिए’. जो कुछ भी होता है उसे वह उसकी सम्पूर्णता में स्वीकार कर लेता है. यह स्वीकरण उसे मुक्त करता है और मनुष्य की सामान्य दृष्टि की व्याधियों का उपचार करता है. ये व्याधियां हैं: ‘ऐसा होना चाहिए’, ‘ऐसा नहीं होना चाहिए’, ‘भेद करना’, ‘निर्णय करना’, ‘निंदा करना’, और ‘प्रसंशा करना’.

* * * * * * * * * *

One Zen monk, Bokuju, was passing through a street in a village. Somebody came and struck him with a stick. He fell down, and with him, the stick also. He got up and picked up the stick. The man who had hit him was running away. Bokuju ran after him, calling, ”Wait, take your stick with you!”

He followed after him and gave him the stick. A crowd had gathered to see what was happening, and somebody asked Bokuju, ”That man struck you hard, and you have not said anything!”

Bokuju is reported to have said, ”A fact is a fact. He has hit, that’s all. It happened that he was the hitter and I was the hit. It is just as if I am passing under a tree, or sitting under a tree, and a branch falls down. What will I do? What can I do?”

But the crowd said, ”But a branch is a branch, this is a man. We cannot say anything to the branch, we cannot punish it. We cannot say to the tree that it is bad, because a tree is a tree, it has no mind.”

Bokuju said, ”This man to me is also just a branch. And if I cannot say anything to the tree, why should I bother to say anything to this man? It happened. I am not going to interpret what has happened. And it has already happened. Why get worried about it? It is finished, over.”

This is the mind of a sage – not choosing, not asking, not saying this should be and this should not be. Whatsoever happens, he accepts it in its totality. This acceptance gives him freedom, this acceptance gives him the capacity to see. These are eye diseases: shoulds, should nots, divisions, judgments, condemnations, appreciations.

22 Comments

Filed under संत-महात्मा, Stories, Zen Stories

वर्तमान

“सदैव वर्तमान में उपस्थित रहने से आपका क्या तात्पर्य है?”, शिष्य ने गुरु से पूछा.

गुरु ने शिष्य को एक छोटी जलधारा के पार तक चलने के लिए कहा. जलधारा के बीच कुछ दूरी पर पड़े पत्थरों पर चलकर वे दूसरी ओर आ गए.

गुरु ने पूछा, “एक पत्थर पर पैर रखकर अगले पत्थर पर पैर रखना आसान था न?”

“हाँ”, शिष्य ने कहा, “क्या यही सीख है कि एक बार में एक पत्थर पर पैर धरना है?”

“नहीं, सीख यह है कि…”, गुरु ने कहा, “यदि तुम पत्थरों पर क्रमशः एक-एक करके पैर रखोगे तो पार जाना सरल हो जाएगा. लेकिन यदि तुम हर पत्थर को उठाकर आगे बढ़ना चाहोगे तो तुम डूब जाओगे”.

शिष्य जलधारा में जमे हुए विशाल पत्थरों को देखकर यह कल्पना करता रहा कि कोई उन्हें किस भांति ढोकर पार ले जा सकेगा. फिर उसने श्रद्धापूर्वक गुरु को नमन किया.

9 Comments

Filed under Zen Stories

जीवन का आनंद

“इस साल मैंने अपने जीवन का पूरी तरह से आनंद लिया”, शिष्य ने गुरु से कहा.

“अच्छा?”, गुरु ने पूछा, “क्या-क्या किया तुमने?”

“सबसे पहले मैंने गोताखोरी सीखी”, शिष्य ने कहा, “फिर मैं दुर्गम पर्वतों पर विजय पाने के लिए निकला. मैंने रेगिस्तान में भी दिन बिताये. मैंने पैराग्लाइडिंग की, और आप यकीन नहीं करेंगे, मैंने…”

गुरु ने हाथ हिलाकर शिष्य को टोकते हुए कहा, “ठीक है, ठीक है, लेकिन यह सब करने के दौरान तुम्हें जीवन का आनंद उठाने का समय कब मिला?”

Thanx to John Weeren for this story

18 Comments

Filed under Zen Stories

चुनाव

शिष्य ने गुरु से पूछा, “यदि मैं आपसे यह कहूं कि आपको आज सोने का एक सिक्का पाने या एक सप्ताह बाद एक हज़ार सिक्के पाने के विकल्प में से एक का चुनाव करना है तो आप क्या लेना पसंद करेंगे?”

“मैं तो एक सप्ताह बाद सोने के हज़ार सिक्के लेना चाहूँगा”, गुरु ने कहा.

शिष्य ने आश्चर्य से कहा, “मैं तो यह समझ रहा था कि आप आज सोने का एक सिक्का लेने की बात करेंगे. आपने ही तो हमें हमेशा वर्तमान क्षण में अवस्थित रहने की शिक्षा दी है!”

“तुमने मुझे सोने की दो काल्पनिक मात्राओं में से एक का चयन करने के लिए कहा”, गुरु बोले, “तो इससे क्या फर्क पड़ता है कि मैं किसका चुनाव करता हूँ!?

Thanx to John Weeren for this story

14 Comments

Filed under Zen Stories