मुल्ला नसरुद्दीन और बेईमान क़ाज़ी

एक दिन जब मुल्ला नसरुद्दीन बाज़ार में टहल रहा था तब अचानक ही एक अजनबी उसके रास्ते में आ गया और उसने मुल्ला को एक ज़ोरदार थप्पड़ रसीद कर दिया. इससे पहले कि मुल्ला कुछ समझ पाता, अजनबी फ़ौरन ही अपने हाथ जोड़कर माफ़ी मांगने लगा – “मुझे माफ़ कर दें! मुझे लगा आप कोई […]

मुल्ला नसरुद्दीन : खुशबू की कीमत

राह चलते एक भिखारी को किसी ने चंद रोटियां दे दीं लेकिन साथ में खाने के लिए सब्जी नहीं दी. भिखारी एक सराय में गया और उसने सराय-मालिक से खाने के लिए थोड़ी सी सब्जी मांगी. सराय-मालिक ने उसे झिड़ककर दफा कर दिया. भिखारी बेचारा नज़र बचाकर सराय की रसोई में घुस गया. चूल्हे के […]

मुल्ला नसरुद्दीन के चंद छोटे किस्से – 3

कल मुल्ला नसरुद्दीन के किस्सों पर हिमांशु जी की अच्छी टिपण्णी आई – “मुल्ला के यह किस्से रोचक तो हैं ही, अर्थगर्भित भी हैं। मुझे तो यह प्रबोध देते जान पड़ते हैं हमेशा।” – सच कहते हैं हिमांशु. कभी- मुल्ला के बेतुके से प्रतीत होने वाले किस्से भी ज़ेन कथाओं की भांति जीवन और संसार […]

मुल्ला नसरुद्दीन के चंद छोटे किस्से – 2

मुल्ला अपने शागिर्दों के साथ एक रात अपने घर आ रहा था कि उसने देखा एक घर के सामने कुछ चोर खड़े हैं और ताला तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं. मुल्ला को लगा कि ऐसे मौके पर कुछ कहना खतरे से खाली न होगा इसलिए वह चुपचाप चलता रहा. मुल्ल्ला के शागिर्दों ने भी […]

मुल्ला नसरुद्दीन के चंद छोटे किस्से

1195492295_61cc4ce5e1.jpg

एक दिन मुल्ला नसरुद्दीन अपने गधे पर बैठकर किसी दूसरे शहर से अपने गाँव आया. लोगों ने उसे रोककर कहा – “मुल्ला, तुम अपने गधे पर सामने पीठ करके क्यों बैठे हो?” मुल्ला ने कहा – “मैं यह जानता हूँ कि मैं कहाँ जा रहा हूँ लेकिन मैं यह देखना चाहता हूँ कि मैं कहाँ […]

मुल्ला नसरुद्दीन और बेचारा पर्यटक

mosque1.jpg

मुल्ला नसरुद्दीन एक बार तीर्थयात्रा पर मक्का गए और रास्ते में मदीना में भी रुके. जब वह वहां की मुख्य मस्जिद में घूम रहे थे तब एक हैरान-परेशान विदेशी पर्यटक उनके पास आया और उसने मुल्ला से पूछा –  “जनाब, आप मुझे यहीं के बाशिंदे लगते हैं. क्या आप मुझे इस मस्जिद के बारे में […]

मुल्ला नसरुद्दीन और ग़रीब का झोला

एक दिन मुल्ला कहीं जा रहा था कि उसने सड़क पर एक दुखी आदमी को देखा जो ऊपरवाले को अपने खोटे नसीब के लिए कोस रहा था. मुल्ला ने उसके करीब जाकर उससे पूछा – “क्यों भाई, इतने दुखी क्यों हो?” वह आदमी मुल्ला को अपना फटा-पुराना झोला दिखाते हुए बोला – “इस द्नुनिया में […]

मुल्ला नसरुद्दीन का भाषण

एक बार शहर के लोगों ने मुल्ला नसरुद्दीन को किसी विषय पर भाषण देने के लिए आमंत्रित किया. मुल्ला जब बोलने के लिए मंच पर गया तो उसने देखा कि वहां उसे सुनने के लिए आये लोग उत्साह में नहीं दिख रहे थे. मुल्ला ने उनसे पूछा – “क्या आप लोग जानते हैं कि मैं […]

मुल्ला नसरुद्दीन और भिखारी

एक दिन एक भिखारी ने मुल्ला नसरुद्दीन का दरवाज़ा खटखटाया. मुल्ला उस समय अपने घर की ऊपरी मंजिल पर था. उसने खिड़की खोली और भिखारी से कहा – “क्या चाहिए?” “आप नीचे आइये तो मैं आपको बताऊँगा” – भिखारी ने कहा. मुल्ला नीचे उतरकर आया और दरवाज़ा खोलकर बोला – “अब बताओ क्या चाहते हो.” […]

मुल्ला नसरुद्दीन : दावत

ख़ुशी की बात यह है की मुल्ला नसरुद्दीन खुद हमें यह कहानी सुना रहे हैं:- “एक दिन ऐसा हुआ कि किसी ने किसी से कुछ कहा, उसने किसी और से कुछ कहा और इसी कुछ-के-कुछ के चक्कर में ऐसा कुछ हो गया कि सब और यह बात फ़ैल गई कि मैं बहुत ख़ास आदमी हूँ. […]