स्वयं से पूछो, “मैं कौन हूं?”

”मैं कौन हूं?” जो स्वयं से इस प्रश्न को नहीं पूछता है, उसके लिए ज्ञान के द्वार बंद ही रह जाते हैं. उस द्वार को खोलने की कुंजी यही है. स्वयं से पूछो कि ”मैं कौन हूं?” और जो प्रबलता से और समग्रता से पूछता है, वह स्वयं से ही उत्तर भी पा जाता है.

Thomas Carlyle

कारलाइल बूढ़ा हो गया था. उसका शरीर अस्सी वसंत देख चुका था. और जो देह कभी अति सुंदर और स्वस्थ थी, वह अब जर्जर और ढीली हो गई थी. जीवन संध्या के लक्षण प्रकट होने लगे थे. ऐसे बुढ़ापे की एक सुबह की घटना है. कारलाइल स्नानगृह में था. स्नान के बाद वह जैसे ही शरीर को पोंछने लगा, उसने अचानक देखा कि वह देह तो कब की जा चुकी है, जिसे कि वह अपनी मान बैठा था! शरीर तो बिलकुल ही बदल गया है. वह काया अब कहां है जिसे उसने प्रेम किया था? जिस पर उसने गौरव किया था, उसकी जगह यह खंडहर ही तो शेष रह गया है. पर साथ ही एक अत्यंत अभिनव-बोध भी उसके भीतर अकुंडलित होने लगा : ”शरीर तो वही नहीं है, लेकिन वह तो वही है. वह तो नहीं बदला है.” और तब उसने स्वयं से ही पूछा था, ”आह! तब फिर मैं कौन हूं?”

यही प्रश्न प्रत्येक को अपने से पूछना होता है. यही असली प्रश्न है. प्रश्नों का प्रश्न यही है. जो इसे नहीं पूछते, वे कुछ भी नहीं पूछते हैं. और, जो पूछते ही नहीं, वे उत्तर कैसे पा सकगें?

पूछो. अपने अंतरतम की गहराइयों में इस प्रश्न को गूंजने दो, ”मैं कौन हूं?”

जब प्राणों की पूरी शक्ति से कोई पूछता है, तो अवश्य ही उत्तर उपलब्ध होता है. और, वह उत्तर जीवन की सारी दिशा और अर्थ को परिवर्तित कर देता है. उसके पूर्व मनुष्य अंधा है. उसके बाद ही वह आंखों को पाता है.

ओशो के पत्रों के संकलन ‘पथ के प्रदीप’ से. प्रस्तुति – ओशो शैलेन्द्र.

About these ads

26 Comments

Filed under Osho

26 responses to “स्वयं से पूछो, “मैं कौन हूं?”

  1. All Spiritual seekers, interested to know “WHO AM I.?” “MEIN KOUN HUN?” are invited to join 6days Program- DHYAN SAMADHI from 7th to 12th November at MURTHAL, 50 Km from Delhi.
    Call-
    09068139122 =Pinky
    09671400193 =Rekha
    Watch Astha TV at 6.50~7.10 pm.
    Thanks.
    -Osho Shailendra

    Like

  2. बड़ा ही आवश्यक प्रश्न है जीवन के लिये।

    Like

  3. प्रायः हम पूछते हैं ज़रूर किंतु पूरी शक्ति से नहीं,इसी एक प्रश्न में है जीवन छिपा।

    Like

  4. global agrawal

    बड़ा ही आवश्यक प्रश्न है
    सभी को पढनी चाहिए ये पोस्ट

    Like

  5. अपने अंतरतम की गहराइयों में इस प्रश्न को गूंजने दो, ”मैं कौन हूँ?”

    अगर यही पता चल गया तो बस जीवन का सबब पूर्ण ।

    Like

  6. जीवन को सार्थक दिशा प्रदान करने के लिए यह प्रश्न बार बार स्वयं को पूछा जाना भी पर्याप्त है। उत्तर प्राप्त न भी हो जीवन को कोई न कोई सार्थक उद्देश्य तो मिल ही जाता है। और अगर उत्तर बोध हो जाय तो श्रेष्ठ लक्ष्य भी।

    Like

  7. ek shbda me kahe : athato brahma jigyasa.
    anubhuti : aham brahmaasmee
    vyaapak drishti : tat twam asee.
    pushpendra dube

    Like

  8. Alpesh Arya

    बहुत ही यथार्थ और अंतर्मन को छूने वाला

    Like

  9. To ask the question as to “who am I?” is to ask almost every question possible! Divinity, Materiality and Society- all aspects are inextricably intertwined!

    Like

  10. अच्छा…प्रवचनिया तरीका…

    Like

  11. G Vishwanath

    “मैं कौन हूँ ” के साथ साथ “मैं क्या हूँ” और ” मैं कहाँ हूँ ” भी पूछा जा सकता है.

    Like

  12. first and last question of our life, in one question , Good.

    Like

  13. बन्धु, जब आपका सारा मसाला ओपनसोर्स है तो ब्लॉग की फुल फीड देने में क्या हर्ज? रही बात टिप्पणियों की, वह तो बाई एण्ड लार्ज हिन्दी में बार्टर सिस्टम के तहद है! उसके लिये तो बन्दा ब्लॉग पर आयेगा ही! :-)

    Like

    • मैंने अपने ही ब्लौग की फीड सबस्क्राइब नहीं की हुई है इसलिए मुझे पता नहीं था कि अधूरी फीड देखना बेकार लगता है, इसलिए अब मैं मेल में पूरी फीड देने जा रहा हूँ.
      टिप्पणियों के बारे में अपने विचार भी वही हैं. :)

      Like

  14. Debra

    our bodies change. we are not our body. impermanence. everything changes. to me we are mindstream.

    Like

  15. मैं कौन हूँ से ही परेशान थे लोग कि कहाँ हूँ, कैसा हूँ…जैसे सवाल भी आ गए…

    Like

  16. सवाल ही सवाल हैं, जवाब अव्वल तो है नहीं और अगर है तो खुद हल किये बिना कोई लाभ नहीं।

    Like

  17. ‘मै कौन हूँ’ पूछना अपने आप से बहुत अच्छा उपाय है, अपने आप को जानने का ,फिर भी टिप्पणी-बॉक्स में पोस्ट-लेखक अपने नंबर फ्लैश करके किसका प्रचार कर रहे हैं ?

    जिन महानुभावों को अपने बारे में पूरी जानकारी हो गयी हो,हमें मेल से देना !

    Like

  18. जिसने इस प्रश्न का उत्तर खोज लिया वह आवागमन के चक्कर से मुक्त हो गया।

    ब्रह्म सत्यम्‌ जगन्मिथ्या, जीवो ब्रह्मैव नापरः।

    Like

  19. ARVIND

    HELLO
    HUM AK AATMA HE.JO KI PRBHU KA ANSH H.
    HUM SAB KA PITA WO PRMASHWER H. OR HUM US KI SANTAN H.

    Like

  20. dhanwant singh

    ? ” main kon hun”
    KOI NAHI ” KUCH NAHI”

    Like

  21. मैं निश्चित ही वो नहीं हूँ जो मैं दीखता हूँ, और जो मैं हूँ वो दिखता नहीं. इसीमें इस जीवन का फलसफा छुपा है. जो इसे समझ गया वही है सिकंदर.

    Like

  22. Nitesh raghuwanshi

    aaj tak samajh nahi paya ki main pruthavi par kyon aaya hun

    Like

  23. Shailendra Verma

    MAIIN EK CHATNA HOON (UURJA SHARIR) ENERGY BODY ,JO SHARIR MAIN AANE HE PAHLE BHI THI AUR SHARIR KE BAAD BHI RAHEGI ,JISE JAANNA KE LIYE HE GARB MAIN PARVASH KIYA AUR PHIR KE BAAR 7 VARSH KE UMAR TAK BOOL GAYA NAYE SHABD NAYE VICHAR MILE AUR AAJ MAIN PHIR AANDHA HO. SHAILENDRA SHAAN DEV OSHO OSHO OSHO.

    Like

  24. kapil

    mai omkar hu

    Like

  25. महर्षि रमन के अनुसार सिर्फ प्रश्न पूछे उतर कि प्रतीक्षा न करे…”मैं” पर बने रहे…यहाँ बौद्धिक उतर कि तरफ इशारा नहीं है…”मैं” का अनुभव सब को होता हैं मगर वो स्पष्ट नहीं होता…शने.. शने…. वास्तविक “मैं” अनुभव होने

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s