Skip to content
About these ads

मन के छिद्र बंद करो

रात्रि बीत गई है और खेतों में सुबह का सूरज फैल रहा है. एक छोटा सा नाला अभी-अभी पार हुआ है. गाड़ी की आवाज सुन चांदनी के फूलों से सफेद बगुलों की एक पंक्ति सूरज की ओर उड़ गई है.

फिर कुछ हुआ है और गाड़ी रुक गई है. इस निर्जन में उसका रुकना भला लगा है. मेरे अपरिचित सहयात्री भी उठ आए हैं. रात्रि किसी स्टेशन पर उनका आना हुआ था. शायद मुझे संन्यासी समझ कर प्रणाम किया है. कुछ पूछने की उत्सुकता उनकी आंखों में है. आखिर वे बोल रहे हैं, ”अगर कोई बाधा आपको न हो तो मैं एक बात पूछना चाहता हूं. मैं प्रभु में उत्सुक हूं और उसे पाने का बहुत प्रयास किया है, पर कुछ परिणाम नहीं निकला. क्या प्रभु मुझ पर कृपालु नहीं है?”

मैंने कहा, ”कल मैं एक बगीचे में गया था. कुछ साथी साथ थे. एक को प्यास लगी थी. उसने बाल्टी कुएं में डाली. कुआं कुछ गहरा था. बाल्टी खींचने में श्रम पड़ा पर बाल्टी जब लौटी तो खाली थी. सब हंसने लगे.”

”मुझे लगा, यह बाल्टी तो मनुष्य के मन जैसी है. उसमें छेद ही छेद थे. बाल्टी नाममात्र की थी, बस छेद ही छेद थे. पानी भरा था, पर सब बह गया. ऐसे ही मन भी छेद ही छेद है. इस छेद वाले मन को कितना ही प्रभु की ओर फेंकों, वह खाली ही वापस लौट आता है.

”मित्र पहले बाल्टी ठीक कर लें फिर पानी खींच लेना एकदम आसान है. हां, छेद वाली बाल्टी से तपश्चर्या तो खूब होगी, पर तृप्ति नहीं हो सकती है.”

”और स्मरण रहे कि प्रभु न कृपालु हैं, न अकृपालु. बस आपकी बाल्टी भर ठीक होनी चाहिए. कुआं तो हमेशा पानी देने को राजी होता है. उसकी ओर से कभी कोई इनकार नहीं है.”

ओशो के पत्रों के संकलन ‘क्रांतिबीज’ से. प्रस्तुति – ओशो शैलेंद्र

About these ads
8 Comments Post a comment
  1. सही है! मरम्मत भी जरूरी है बाल्टी की। :)

    Like

    August 5, 2011
  2. मन में भरे अविश्वास के सारे छेद बंद करते ही ईश्वर का प्रेम सारी प्यास भर देता है।
    वरेण्य प्रस्तुति,गहरा भाव…

    Like

    August 5, 2011
  3. प्रवीण पाण्डेय #

    बाल्टी की मरम्त में ही जीवन निकला जा रहा है, छेद ही छेद।

    Like

    August 5, 2011
  4. bahut gehri baat…….. “nector in sleeves”……. kuch aise hee…. yaad nahin aa raha english mein novel tha 2nd year.

    Like

    August 5, 2011
  5. इस छिद्र को ही बंद्कर पाना ही मुश्किल है..हम इसी प्रयास में सारी जिन्गगी बीतादेते है..सार्थक पोस्ट..धन्यवाद….

    Like

    August 6, 2011
  6. bahut barhiya.aapaki post dekh kar man ko shanti milti hai

    Like

    August 8, 2011
  7. बहुत अच्छी कहानी है

    Like

    August 8, 2011
  8. D K Dew #

    baat samajh mein nahi aaee

    Like

    April 19, 2012

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 3,506 other followers

%d bloggers like this: