बचपन

कन्फ्यूशियस अपने शिष्यों के साथ लंबी यात्रा पर था. मार्ग में उसने किसी गाँव में रहनेवाले एक बुद्धिमान बालक के बारे में सुना. कन्फ्यूशियस उस बालक से मिला और उससे पूछा:

“विश्व में मनुष्यों के बीच बहुत असमानताएं और भेदभाव हैं. इन्हें हम किस प्रकार दूर कर सकते हैं?”

“लेकिन ऐसा करने की आवश्यकता ही क्या है?”, बालक ने कहा, “यदि हम पर्वतों को तोड़कर समतल कर दें तो पक्षी कहाँ रहेंगे? यदि हम नदियों और सागर को पाट दें तो मछलियाँ कैसे जीवित रहेंगीं? विश्व इतना विशाल और विस्तृत है कि इन असमानताओं और विसंगतियों का उसपर कोई प्रभाव नहीं पड़ता.”

कन्फ्यूशियस के शिष्य बालक की बात सुनकर बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने बालक की भूरि-भूरि प्रशंसा की. लेकिन कन्फ्यूशियस ने कहा:

“मैंने ऐसे बहुत से बच्चे देखे हैं जो अपनी अवस्था के अनुसार खेलकूद करने और बालसुलभ गतिविधियों में मन लगाने की बजाय दुनिया को समझने की कोशिश में लगे रहते हैं. और मैंने यह पाया कि उनमें से एक भी प्रतिभावान बच्चे ने आगे जाकर अपने जीवन में कुछ भी महत्वपूर्ण नहीं किया क्योंकि उन्होंने अपने बचपन की सरलता और सहज अनुत्तरदायित्व का कोई अनुभव नहीं किया.

About these ads

18 Comments

Filed under Tao Stories

18 responses to “बचपन

  1. ज्ञान का हाथी, सहज का दुशाला.

    Like

  2. भारत के सभी टापरों के चाहे वे आई आई टी के हों, मेडिकल के हों, मैट्रिक के हों, इंटर के हों, बाद के जीवन को देखें तो सचमुच यही लगता है। बिहार में इस तरह के छात्रों की संख्या 10-20000 से कम नहीं होगी पिछले पचास सालों में लेकिन कुछ करनेवाले 200 भी नहीं होंगे। अब तो बच्चे से उसका बचपन ही छिन गया है। दस किलो के बच्चे के पीठ पर बीस किलो का बोझा लाद कर भेज दिया जाता है।

    कनफ्यूशियस भी अब कन्फ़्यूज कर जाते अगर होते।

    Like

  3. अब तो बचपन भी असमय ही जवान हो जाता है..शानदार पोस्ट..बधाई.

    _______________
    शब्द-शिखर / विश्व जनसंख्या दिवस : बेटियों की टूटती ‘आस्था’

    Like

  4. So true these days children are becoming adults in a very young age..
    the innocence and pureness is loosing somewhere.

    Like

  5. इस प्रेरक प्रसंग को पढवाने का शुक्रिया।

    ——
    TOP HINDI BLOGS !

    Like

  6. प्रवीण पाण्डेय

    सहजता कभी कभी बड़े बड़े उपक्रमों की आवश्यकता समाप्त कर देती है।

    Like

  7. हस्ती चढिये ज्ञान की सहज दरीचा डारि,स्वान रूप संसार है,भूकन दे झख मारि !–कबीर

    Like

  8. nisha aggarwal

    Very true and touching.It forces you to think about children who have no
    Bachpan.

    Like

  9. असमानता सहज है, आखिर उसे दूर करनें की आवश्यकता ही क्या है?

    समय से पहले की विद्ध्वता, सहजता का असमय अवसान होती है।

    निशांत जी, बोध-दायक प्रस्तुति!!

    Like

  10. बचपन कहीं नहीं गया वो तो आज भी वही है,शायद बड़ों का ही नज़रिया बदल गया लगता है।
    गाँव से लेकर शहर तक बच्चे वही हैं और बचपना भी वही। कन्फ्यूशियस ने ऐसे बहुत सारे बच्चे देखे,किन्तु सारे नहीं।
    समानतायें-असमानतायें बच्चों में हैं अवश्य किन्तु वो तो प्रकृति है…

    Like

  11. कन्फ्युसियस ने जरुर यह बात किसी और सन्दर्भ में कही होगी वरना समाज में फैली असमानता से अर्दों मासूम बच्चे भूख से मर जाते हैं, इलाज के आभाव में मर जाते हैं. जीवन की बुनियादी सुविधाओं के अभाव में उनका समूचा बचपन नारकीय स्थिति में गुजरता है. ऐसे में निर्जीव भू-आकृतियों और हाड़-मांस के मनुष्यों के बिच फैली असमानता में फरक करने की जरुरत है.

    विषय से इतर, आपके ब्लॉग की रूपरेखा की तारीफ किये बगैर रहा नही जा रहा है :-)

    Like

  12. कृपया पढ़ें…’सहज दुलीचा डारि’

    Like

  13. काफी तर्क संगत है प्रसंग.व्यावहारिकता में भी देखा जाये तो जो बच्चे बचपन में ज्यादा ही समझदार लगते हैं बड़े होकर कुछ खास नहीं कर पाते.
    परन्तु ये सामाजिक असमानता कुछ ज्यादा ही है और प्राकृतिक असामनता से इतर भी.
    आज कन्फ्यूशियस होते तो शायद कुछ अलग तरह से प्रश्न करते या वह बालक शायद कुछ अलग जबाब देता .

    Like

  14. bachche ne badi baat keh di.

    maine Confucius ke Quotes ka sangrah kia hai…shyad aapko achca lage:
    http://achchikhabar.blogspot.com/2011/07/confucius-quotes-in-hindi.html

    Like

  15. वाह….

    प्रेरनामयी कथा…

    बहुत बहुत आभार पढवाने के लिए..

    Like

  16. बहुत बढ़िया…. सहजता से जितना सीखा जाता है, शायद प्रयास से उतना नहीं। फिर विशिष्ट होने के पागलपन में जो अपनी सामान्यता खो देता है, उसे आखिर में कुछ भी हाथ नहीं आता और वो खुद को ठगा हुआ महसूस करता है। प्रवाह में सीखे तो जीवन ज्यादा गहरे उतरता है… ऐसा अनुभव है, कहीं पढ़ा तो नहीं है … :)

    Like

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s