Skip to content
About these ads

खुश कैसे रहें?

* यदि तुम एक घंटे के लिए खुश रहना चाहते हो तो एक झपकी ले लो.

* यदि तुम एक दिन के लिए खुश रहना चाहते हो तो पिकनिक पर चले जाओ.

* यदि तुम एक सप्ताह के लिए खुश रहना चाहते हो तो कहीं घूम-फिर आओ.

* यदि तुम एक महीने के लिए खुश रहना चाहते हो तो शादी कर लो.

* यदि तुम एक साल के लिए खुश रहना चाहते हो तो बड़ी जायदाद के वारिस बन जाओ.

* और यदि तुम ज़िंदगी भर के लिए खुश रहना चाहते हो तो अपने काम से प्यार करना सीखो.

(अज्ञात कार्टूनिस्ट के प्रति आभार सहित)

About these ads
16 Comments Post a comment
  1. अच्छी पोस्ट!

    Like

    March 1, 2011
  2. प्रवीण पाण्डेय #

    विवाह को केवल माह भर की खुशी, या खुशी में रखना मजबूरी है।

    Like

    March 1, 2011
  3. arvind mishra #

    ..वाह क्या सूत्र….. लाख टेक की निचोड़ सलाह!

    Like

    March 1, 2011
  4. उचित सलाह!

    Like

    March 1, 2011
  5. G Vishwanath #

    quote:
    और यदि तुम ज़िंदगी भर के लिए खुश रहना चाहते हो तो अपने काम से प्यार करने सीखो.
    unquote

    क्या करें?
    हम सब के दो प्रकार के काम होते हैं
    पहला: वह काम जो हम करना चाहते हैं
    दूसरा: वह काम जिसे हमें करना पढता है।

    यदि अपने काम से प्यार करना संभव नहीं तो हमें वही काम अपनाना चाहिए जिससे हम प्यार करते हैं।

    Like

    March 1, 2011
  6. खुश रहने की प्‍यारी नसीहत.

    Like

    March 1, 2011
  7. Punama Ram Teacher, Barmer (Rajasthan) #

    Lajawab! Koyi bhi itna dhanwan nahi hota ki gujre huve samay ko kharid sake; koyi bhi itna garib nahi hota ki ane wale kal ko khushnasib na bana sake. Thanks Nishantji.

    Like

    March 1, 2011
  8. सार्थक सन्देश। धन्यवाद।

    Like

    March 1, 2011
  9. Dear Bhaijan,
    Above cartoons are made by Mickey Patel for Promod Batra”s book

    Like

    March 1, 2011
    • Thanx for the update, Jayanti ji! I hope none of them would object me using this image for this post.

      Like

      March 1, 2011
  10. उन्मुक्त #

    जीवन में सफलता के लिये वह काम करना चाहिये जो पसन्द हो। यह मैं नहीं लेकिन रिचर्ड फाइनमेन कहते हैं।

    Like

    March 2, 2011
  11. काजल कुमार #

    वाह क्या बात है

    Like

    March 2, 2011
  12. @ उन्मुक्त – फिनमेन की भौतिकी की किताब पर उनकी तबला बजाते फोटो याद आ गई! क्या जीवन्त व्यक्तित्व लगता था उनका!

    Like

    March 2, 2011
  13. DEEPAK PANDEY #

    this is real [ART OF LIVING }

    Like

    June 17, 2012
  14. vipul #

    nice line

    Like

    August 26, 2012

Trackbacks & Pingbacks

  1. हमीं ने काम कुछ ऐसा चुना है, उधेड़ा रात भर दिन भर बुना है : चिट्ठा चर्चा

टिप्पणी देने के लिए समुचित विकल्प चुनें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 3,509 other followers

%d bloggers like this: