सफ़ेद बाल

एक दाढ़ीवाले आदमी ने नाई की दुकान में जाकर उस्ताद नाई से कहा – “मैं एक और निकाह करने जा रहा हूँ. तुम मेरी दाढ़ी में से सारे सफ़ेद बाल अलग कर दो.”

उस्ताद नाई ने कैंची उठाकर पलक झपकते ही कच्च-कच्च करके पूरी दाढ़ी काट दी और उसे आदमी के हाथ में थमाकर कहा – “मेरे पास वक़्त नहीं है. तुम खुद ही सफ़ेद बाल छांट लो.”

(मसूद फरज़ान की कहानी – A Sufi story by Massud Farzan – in Hindi)

Add to FacebookAdd to DiggAdd to Del.icio.usAdd to StumbleuponAdd to RedditAdd to BlinklistAdd to TwitterAdd to TechnoratiAdd to Yahoo BuzzAdd to Newsvine Add to Google Buzz

1
Shares

Comments

  1. प्रवीण पाण्डेय says

    एक को छिपाने के लिये सबको रंगना भी पड़ता है ।

Leave a comment